अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जूते का अधिकार

मैं जाति से निम्न 
अदना सा जूता हूँ तो क्या 
पोशाक तो मैं भी हूँ
आदमी की शान बढ़ाता हूँ
मुझे चाटकर लोग
आदमी से अपना
काम बनवाते हैं
जो गोली बारूद से नहीं डरता
लोग उन्हें 
मेरे नाम से डराते हैं
 
आदमियों में  जब अच्छा-बुरा, 
साधु-असाधु 
सभी आदमी कहलाता हैं
छोटे ओहदे से 
बड़े सत्ता शीर्ष तक 
आरक्षण पाता है
फिर पोशाकों में सदियों से यह भेद
मेरे ही साथ क्यूँ? 
मनुष्यों के पाँवों में पड़े रहना
मेरे साथ भी अन्याय है 
अत्याचार है
मानव सर के उपर 
हमें भी आरक्षण दो
जिस पर टोपी और पगड़ी का 
सदियों से एकाधिकार है
राजा भरत ने 
हमारे बड़े भाई 
श्रीराम खड़ाऊँ को
अपने सर पर रखा था 
चौदह वर्षों तक राजसिंहासन पर 
विराजमान भी किया था 
राजा भरत की जय
भगवान श्री रामचंद्र की जय
इतिहास साक्षी है इस बात का
न तो हमें कभी कोई अभिमान था 
न अहंकार है
और रहे भी तो क्यूँ
यह तो हमारा सदियों पुराना 
खोया हुआ अधिकार है
आखिर पोशाक तो मैं भी हूँ
आदमी के पाँव को 
पथ के धूल-कीचड़ 
काँटे-कंकड़ ईंट पत्थर के 
ठोकरों से बचाता हूँ।
मैं जाति से निम्न 
अदना सा जूता हूँ तो क्या 
पोशाक तो मैं भी हूँ
आदमी की शान बढ़ाता हूँ

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं