अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कल आना

सूरज की लालिमा पहाड़ों के आग़ोश में लुका छिपी खेल रही थी। चरवाहे पशुओं को चराकर घर लौट रहे थे। पक्षी आशियाने के लिए पंखों में अंतिम जान भर रहे थे। दिन भर के कड़े परिश्रम के बाद श्रमजीवी वर्ग घर को रुख़ कर रहा था। मैं शीतकालीन छुट्टियों में घर आया हुआ था। माँ के हाथ का बना खाना खाने, बहन के साथ लूडो खेलने के अलावा होम वर्क और मित्रों के साथ घूमना मेरे दिनचर्या का अहम हिस्सा था। नीलगाय, जंगली सूअर और अन्य जानवरों से खेत की रखवाली करने का ज़िम्मा माँ ने फ़िलहाल मुझे ही दे रखा था। घर से तक़रीबन दो सौ मीटर की दूरी पर खेत था। मेरे घर से एक पगडण्डी सीधे खेत को जाती थी। रास्ते में एक स्वतंत्रता सेनानी का मज़ार बना हुआ था। मैं वहाँ अक्सर रुक जाता हूँ और देश के इस योद्धा को नमन करता हूँ। इक्के-दुक्के सवाली इस आस में बैठे रहते थे कि कोई व्यक्ति शहीद की इस मज़ार पर सिर झुकाने आएगा। मुझे याद है उम्रदराज़ लोगों की एक-आध टोली ज़रूर आती और सवालियों को भोजन कराती थी। मैं गोधूलि बेला में एक झोला लेकर खेत की ओर निकल पड़ता। खेत पहुँच मटर की फलियाँ तोड़ने में जुट गया क्योंकि घर पर माँ इंतज़ार कर रही थी। अँधेरा हो चुका था। गाँव की एक दादी जो उस रास्ते से गुज़र रही थीं देखकर रुक गयीं।

दादी माँ ने पूछा, "कारे बचवा इतने ठंडी में घर क्यों नहीं गया अब तक।"

"माँ बस थोड़ी देर में पहुँच जाऊँगा।"

दादी माँ ने चेतावनी दी, "जल्दी निकल जा जंगली जानवर बहुत घूमते रहते हैं। तेरे हाथ में पतले डंडा के सिवा कुछ है भी नहीं।"

"हाँ, माँ जी निकला अभी।"

मैं दादी के जाने के बाद झोला उठाकर टॉर्च की मद्धम रोशनी में पगडण्डी से जा रहा था। मज़ार से दस क़दम पहले एक आवाज़ सुनाई दी, "कल आना"।

मैं डर गया था लगा क़िस्से कहानियों वाले भूत की आवाज़ है। डरता भी क्यों न मज़ार जंगल के बीचों-बीच बना था और पगडण्डी वहीं से गुज़रती थी। सोचा दौड़कर निकल जाऊँ। फिर याद आया हरिया के पालतू कुत्ते का, जो अक्सर दौड़ते लोगों को काट लेता था। मैं दबे पाँव मज़ार पहुँचा तो एक सवाली नज़र आया जो पास के कुत्ते को बोल रहा था - "कल आना, खाने को कुछ नही है आज। आज कोई भी श्रद्धालु नहीं आया मज़ार पर। रात काट ले। आजा कम्बल में घुस जा। कहाँ जाएगा रात काली स्याह की भाँति पसर गयी है।"

आज समाज की सच्चाई से अवगत हुआ कि धार्मिक स्थलों पर मजमा और स्वतंत्रता सेनानी के मज़ार पर सन्नाटा भी होता है, जिसने अपना सब कुछ समर्पित किया वतन के वास्ते। ’शहीदों के मजारों पर लगेंगे हर बरस मेले, वतन पे मरने वालों का बाक़ी यही निशां होगा..’ का औचित्य ही समझ नहीं आ रहा? 

मैंने मटर से भरा झोला सवाली को दे दिया। इस उद्देश्य से कि दो जीवधारी भूख के प्रकोप से बच जाएँ। घर पहुँचकर माँ को सारा वाक़या बयाँ किया। 

माँ बोली. "शाबाश बेटा, तुमने एक आदमी के साथ एक अनबोल को भी भूखा रहने से बचाया है। यही है समर्पण की असली विचारधारा जो सभी धर्मों से ऊपर की अवस्था है।"
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अगला जन्म
|

सड़क के किनारे बनी मज़दूर बस्ती में वह अपने…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख

नज़्म

लघुकथा

कविता

कविता - हाइकु

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं