अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मत पूछो कि क्या है माँ

दहकती हुई धूप में,
तरुवर का साया है 
माँ के आँचल में 
ब्रह्मांड समाया है 
मरूस्थल सी धरती पर
सूखी बंज़र परती पर
अटकी हुईं साँसों का वरदान, 
हवा है माँ 
अहसान इसका बयां नहीं,
मत पूछो कि क्या है माँ!


माँ के कोमल चरणों में चारों धाम हैं
थके हुए इस जीवन में,
माँ शीतल आराम है 
शबरी के मीठे बेर में,
देवकी आँसुओं के ढेर में, 
यशोदा के माखन में, 
कौशल्या के आँगन में -
जैसे प्रेम की झलक दिखती है 
संसार कि सारी माताएँ भी-
ठीक वैसे ही बिनमोल बिकती हैं
दिल के अँधेरे कमरों का 
दीपक और दीया है माँ 
अहसान इसका बयां नहीं
मत पूछो कि क्या है माँ!


संसार के निर्मल गुणों का 
निचोड़ है, सच्ची भावना है 
व्याकुल और उलझे मन की 
सुलझी हुई सांत्वना है 
माँ की बदौलत हम भी,
दुनिया को जान सकें 
माँ के ही रूप में,
हम ईश्वर को पहचान सकें 
इस निर्लज्ज संसार में,
शर्म और हया है माँ
अहसान इसका बयां नहीं
मत पूछो कि क्या है माँ!


हमारी रग-रग में, 
इसकी ममता समाई है 
माँ कोई रिश्ता नहीं! 
रिश्तों की गहराई है 
हर रिश्ते को तोड़ना भले,
मायूस न माँ को तुम करना!
अस्तित्व तुम्हारा इससे है
न धूमिल इसे तुम करना!


हे राम पिता! इस जीवन में,
जाने हमने क्या-क्या पाप किए
कभी पिता को मायूस किया,
कभी माँ की आज्ञा टाल दिए
धरती के अभागों से 
हम भी तो अभागे हैं 
तेरे ही रूप को चोट देकर,
तेरे ही पीछे भागे हैं 
फिर भी इक उम्मीद है,
इस ना-उम्मीद जीवन में
माँ का आँचल भरा रहे 
तेरे फूलों की इस बगियन में 
हज़ार गुनाहों पे भी मिली,
जीवन की दया है माँ 
अहसान इसका बयां नहीं
मत पूछो कि क्या है माँ!
मत पूछो कि क्या है माँ!!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर हास्य व्यंग्य कविता

कविता

कविता-मुक्तक

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं