अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अभी भी हैं ऐसे लोग

"एक मीठा पान लगा देना भाई, ज़रा जल्दी करना ऑफ़िस के लिये देर हो रही है।"

मैं अपना मोपेड वाहन साईड स्टेंड पर लगाकर और आदेश देकर पान का इंतज़ार करने लगा। दुकान में और भी ग्राहक अपनी बारी के इंतज़ार में खड़े थे मेरी तरफ देखकर मुस्कराने लगे। इधर दूकानदार ने भी एक उचाट सी नज़र मेरी ओर डाली और हँसने लगा।

पास में खड़े ग्राहक मुस्करा रहे हैं और दूकानदार हँस रहा है. मैं कुछ सतर्क सा हो गया क्या बात है। मैंने अपने कपड़ों की तरफ दृष्टिपात किया कि शायद गलत या उल्टे-सीधे कपड़े तो नहीं पहन रखे हैं। अथवा किसी ने गधा, मूरख या पागल जैसा जुमला लिखकर शर्ट अथवा पेंट पर तो नहीं चिपका दिया है। परंतु जब ऐसा कुछ नहीं दिखा तो मैंने पैरों की तरफ़ देखने का प्रयास किया शायद एक पैरों में बेमेल जूते पहन लिये हों आथवा जुराबें दूसरी-दूसरी... पर ऐसा कुछ नहीं था। मैं सोच ही रहा था कि मैं हास्य का केन्द्र बिंदु क्यों बन रहा हूँ मुझे दुकानदार की प्रेम से सनी मीठी सी आवाज़ सुनाई दी, "भाई साहिब ये मेडिकल स्टोर है, पान की दुकान तीन दुकानें छोड़कर आगे है।" मैंने दुकान की ओर ठीक से निहारा तो जैसे मेरे ऊपर घड़ों पानी पड़ गया। बुरी तरह से झेंप गया। मेडिकल स्टोर में जाकर पान की फ़रमाइश कर बैठा था।

सॉरी कहकर जैसे ही मैं मुड़ने को हुआ दुकानदार बोला "कोई बात नहीं भाई साहब मैं पान यहीं मँगवाये देता हूँ।" इससे पहले मैं कुछ बोल पाता उसने अपने नौकर को पान की दुकान से पान लेने भेज दिया।

"दरअसल आपकी दुकान और पानवाले की दुकान का काउंटर एक जैसा है मैं धोखा..." मैंने सफ़ाई देनी चाही।

"हो जाता है कभी कभी..." दुकानदार हँस रहा था।

मैं सोच रहा था अभी भी दुनिया में ऐसे लोग हैं जो भावनाओं की क़द्र करना.......

"भाई साहब आपका पान," नौकर की आवाज़ से मेरी तंद्रा टूटी। मैंने पैसे देने चाहे।

"मेडिकल स्टोर से पान खाने पर पैसा नहीं लगता।"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कहानी

बाल साहित्य कविता

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य नाटक

बाल साहित्य कहानी

कविता

लघुकथा

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं