अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

गंदी लड़की

"ऑफ़िस के साफ़-सफ़ाई के काम के लिए मुझे गंदी लड़की की आवश्यकता है" मालिक के इस तरह के जवाब पर कलमंजरी अचंभित थी। कलमंजरी ने पंखे की तरफ़ दृष्टि डाल कुछ अनुभव किया और उस अनुभव को मन में दबाकर उसने प्रश्न किया, "मालिक, गंदी लड़की मतलब, गंदा-मटमैला वस्त्र, गंदे बाल, बदबूदार बदन, आँखों में ढेर सारा कीचड़, यही न?"

मालिक की वासनात्मक दृष्टि कलमंजरी के दुपट्टे के पीछे तक गड़ गयी थी, चेहरे पर हल्की सी मुस्कान तैर गई थी। कलमंजरी ने अपना दुपट्टा ठीक करते हुए कहा, "हमको इस नौकरी की आवश्यकता है, मैं हुबहू ऐसा ही रूप बनाकर काम किया करूँगी और शिकायत का कभी कोई मौक़ा नहीं दूँगी।"

नौकरी के दो-तीन दिन समझाने वाली हरकत को समझने में लग गए। अचानक से ऑफ़िस के लोगों ने सुनी मालिक की आवाज़, "निकालो इस गंदी लड़की को ऑफ़िस से, पूरे कैम्पस से इसका काम छुड़वा दूँगा।"

इकट्ठा हो चुके कर्मचारियों ने, मालिक के एक तरफ़ के लाल हो चुके गाल पर उँगलियों के निशान और सफ़ाई वाली लड़की के गर्व से भरी चमकदार आँखों को देखकर, गंदी लड़की के स्वच्छ मन को महसूस किया।

मालिक के थप्पड़ खाए हुए गाल अब भी उसके मन की अथाह गंदगी को बयान कर रहा था।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंतर 
|

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है,…

टिप्पणियाँ

पाण्डेय सरिता 2021/09/16 11:34 AM

बेहद संवेदनशील

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कविता - हाइकु

सांस्कृतिक कथा

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं