अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ग़ज़ल ग़ज़ल में फ़र्क़

 गांधी चौराहे पर उनकी पान की दुकान है| सुबह शाम तो भीड़ रहती ही है पान के शौकीन दिन में भी दुकान को घेरे रहते हैं| यह कहना ज़्यादा मुक़म्मल होगा कि सुबह आठ बजे से खुली दुकान में बैठे चाचा को उनके प्रिय ग्राहक एक सी चाल से पान लगाते हुये देखते हैं| क्यों न हो आखिर पान के साथ साथ गिलोरियों के शौकीनों को उम्दा सी ग़ज़लें भी सुनने को मिलतीं हैं| चाचा पान लगाते लगाते ग़ज़लें कहते हैं और सुनने वाले वाह वाह कर उठते हैं| "इरशाद ", "क्या बात है चाचा", "एक बार फिर से चाचा" जैसे जुमले आसमान में उछलते हैं और चाचा गदगद हो जाते हैं| पानों से अच्छा ग़ज़लों का स्वाद‌ लगता है| इक़बाल ने भले कहा हो सारे जहां से अच्छा हिंदोस्तां हमारा किंतु यहाँ तो सारे जहां से अच्छी चाचा की ग़ज़लें ही होती थीं| लोग ने अपनी अपनी ग़ज़लें बना ली थीं "शाम वहाँ मान मिलता है सम्मान मिलता है, चाचा के यहाँ सबसे अच्छा पान मिलता है|" सब चाचा के दीवाने थे| पान और चाचा, चाचा और उनकी ग़ज़लें सारे शहर में केवल यही चर्चे होते| अतिथि साहित्यकारों को क्षेत्रीय साहित्यकार ज़रूर चाचा के पानों के साथ-साथ उनकी ग़ज़लों का रसास्वदन कराते थे|

अचानक एक दिन लोगों ने चाचा को एक राजनैतिक दल के मंच पर बैठा देखा| जहाँ से चुनाव की बातें उछाली जा रहीं थीं, जाति और धर्म की बातें की जा रही थीं| थोड़े-थोड़े संप्रदाय के चर्चे भी हो रहे थे| हिंदु मुस्लिम सिख ईसाई अमीर गरीब सभी सभी पर चर्चा हो रही थी| हालांकि चाचा कुछ बोल नहीं रहे थे बस चुपचाप मंच पर बैठे थे|

शाम को चाचा की दुकान पर फिर जमघट लगा | लोगों ने पान लगाने की गुज़ारिश की | चाचा ने पान लगाये किंतु ये क्या पानों में स्वाद ही नहीं| चाचा ने ग़ज़लें कहीं पर हे भगवान वह पुरानी कशिश गायब थी बिल्कुल भी मज़ा नहीं आ रहा था, नीरस बोर लोग ऊबकर एक-एक कर खिसकने लगे| पानों की तरह ग़ज़लों का स्वाद भी फीका| न मालूम क्यों...............? ग़ज़ल भी वही ग़ज़लकार भी वही फिर भी...................|

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कहानी

बाल साहित्य कविता

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य नाटक

बाल साहित्य कहानी

कविता

लघुकथा

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं