अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कभी कुछ माँगा नहीं

पृथ्वी को नाचने दो
अपनी पूरी गति से 
रोको नहीं 
टोको नहीं 
बादलों को बजाने दो ढोल 
गाने दो हवाओं को
नदियों को 
पंछियों, झींगुरों और 
इनके जैसे असंख्य प्राणियों को 
अलापने दो सृजन का राग
इस शाश्वत नृत्य-संगीत में 
कोई व्यवधान उपस्थित न करो


वसुंधरा अथक नर्तकी है 
जो अपने जन्म से ही नाच रही है 
उसके घुँघरुओं की लय में बँधी 
यह सारी सृष्टि  थिरक रही है 
तुम उसके नृत्य की
एक भंगिमा-भर हो
या एक तत्कार-भर 


यह क्यों भूल गए तुम?
कि तुम उसीके साथ 
कर रहे हो षड्यंत्र?
जो एक पैर की ठोकर से 
तुम्हे प्रकट करती है 
और दूसरी ठोकर से 
तुम्हे विलीन कर देती है


तुम रोज़ तोड़ रहे हो पहाड़ों को 
अस्तित्व ख़त्म कर रहे हो उनका 
निंदाये  जंगलों को
कर रहे हो बेचैन 
उनकी दुनिया में भर रहे हो कोलाहल 
मासूम प्राणियों की बस्तियाँ 
उजाड़ रहे हो 
पेड़ों को काटकर 
लाखों-करोड़ों पंछियों, गिलहरियों
और बंदरों को
कर रहे हो बेघर 


तुम जिसे जंगल कहते हो 
वह जंगल नहीं 
प्यारा घर है कितनों का 
पूछो वनचरों  से
जो निवास करते हैं उनमें
वे आज मारे-मारे फिर रहे हैं
उजड़ गयी हैं उनकी बस्तियाँ
कहाँ जायें वे 


तुम नहीं हो विधाता 
तुम्हारी बनायी नहीं है यह दुनिया 
जो साँसें देती है तुम्हें
तुम निर्भर हो जिस पर 
उस प्रकृति को 
कभी समझने की कोशिश करना 
कि उसकी गोद सबके लिए है


तुम एक कोरस गा रहे हो 
यही गाना है तुम्हें
तुम एक समूह नृत्य कर रहे हो 
इसीको झूमकर करो 


तुम कर्ज़दार हो 
अनगिनतों के
किसी दिन इत्मीनान से बैठकर 
हिसाब करना  
कि किसने तुम्हें
क्या-क्या दिया ?
तुम उऋण नहीं हो पाओगे
क़र्ज़ इतना निकलेगा 
और सबका निकलेगा
एक मधुमक्खी 
और एक दूब तक का
पर इन सबने तुमसे
कभी कुछ माँगा नहीं 


कम-से-कम 
एहसास तो हो तुम्हें
कि ये सब तुम्हारे अपने हैं
अब से 
इनके ख़िलाफ़ क़दम उठाने से पहले
सोचना ज़रूर

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कहानी

कविता

नवगीत

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं