अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लहरें

जब वो सागर तट पर पहुँचा तो लहरों का आना-जाना अपनी चरम सीमा पर था। चट्टनों पर हो गए छेद और उन पड़ गई दरारें, लहरों कि शक्ति को बयान कर रहे थे।

मनोज कुछ देर पत्थर पर बैठकर समुद्र की लहरों को देखता रहा और मन में उठ रही लहर से पछाड़ खाता रहा, वो लहर जो अब तड़प और प्रेम पथ पर अकेला हो जाने से हिलोरें भर रही थी और आत्महत्या की स्थिति तक ले आई थीं।

समुद्र में उतर कर मनोज आगे बढ़ने की कोशिश करता और हार जाता, और उसके मन की लहरें फिर उसको उकसा देतीं। समुद्र की लहरों और आत्महत्या को उकसा रही मन की लहरों में महा-मुक़ाबला होता रहा।

अंत में समुद्र तक उतरने में सफल हुआ, लेकिन उसके मन की लहरों का प्रयास अब भी ब-दस्तूर जारी था।

समुद्र की लहरों के थपेड़ों ने मनोज को बहुत दूर तक रेत में पटक कर उसकी कमर और पैर में चोट पहुँचा दी थी। अब उसके मन से आत्महत्या को उकसा रही लहरें किनारा कर चुकी थीं।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

सांस्कृतिक कथा

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं