अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रेम प्यासा

लाल जोड़े में सजी-सँवरी बैठी कल्पना, कल्पना के अथाह सागर में गोते लगा रही थी, रात में मनायी सुहागरात का रसानुभव कर रही थी कि अचानक उस पर कुठाराघात हुआ, मन-मस्तिष्क विदीर्ण हो गया क्योंकि अमोल ने आते ही प्रश्न किया, "तुमने पहले किसी से प्यार किया है?" और उसकी  आँखें प्रतिक्षारत, कल्पना के चेहरे पर गड़ गई थीं। कल्पना की चुप्पी का एहसास कर अमोल ने दुसरा प्रश्न किया "कहाँ-कहाँ और कितनी बार डेट पर गई थी?" अमोल के इस तरह के तीखे प्रश्न ने कल्पना को भीतर तक झकझोर कर रख दिया था, क्योंकि उसकी आँखें लगातार कह रही थीं "जवाब दो, कुछ तो बोलो।"

अमोल के बेबाक प्रश्न से अवाक्‌ कल्पना अचंभित थी। कल्पना नहीं चाहती थी कि शक के दायरे अपनी हदें तोड़े। कल्पना के मन-मस्तिष्क में यह प्रश्न, बबंडर की तरह विनाशकारी प्रतीत हो रहा था और प्रश्न का उत्तर, ज्वालामुखी में मैग्मा की तरह दबा हुआ था जो क्रेटर से बाहर आते ही सब कुछ जला देता है। चुप्पी ही शक की जन्मदात्री है, अंततः कल्पना ने कुछ बोलने के लिए होंठ हिलाए लेकिन कुछ सोचकर दोनों होंठ आपस में चिपका लिए। कल्पना के चेहरे पर उदासी के बादल तैर गए, उसकी साँसें तेज़-तेज़ चलने लगीं, उसकी आँखें कड़ी हो गई थीं और आँसू के कुछ बूँदें आँखों के दायरे से बाहर निकल जाना चाहती थीं।

विस्मय की इस अवस्था को महसूस कर अमोल ने कहा, "माफ़ करना कल्पना, मैं इस प्रश्न का उत्तर नहीं चाहता, बस पहले प्यार का एहसास चाहता हूँ, वो करा दो, यह मेरी सिर्फ़ इच्छा है, कोई ज़ोर-ज़बरदस्ती नहीं है।"

अमोल की हल्की सी मुस्काहट ने कल्पना के रोम-रोम पुलकित कर दिया और कल्पना का इस तरह से अमोल की तरफ देखना, पहले प्यार के एहसास का पहला क़दम था।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंतर 
|

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है,…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु

लघुकथा

सांस्कृतिक कथा

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं