अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सम्बन्ध –सेतु

अब कोई भय नहीं है। 
नहीं,अब कोई भय नहीं है। 
वर्षों के हमारे संबंधों ने 
तिल-तिल जल कर,
कण-कण बदलकर,
हमारे बीच एक ऐसे 
सेतु का निर्माण किया है कि 
निःशंक होकर कह सकती हूँ 
कि अब कोई भय नहीं है।


हम हैं दो अलग व्यक्तित्व 
भाव से, व्यवहार से,
आचार से, विचार से,
सदैव हम रहें एकमत 
यह सोचना है व्यर्थ,
विरोधों में भी पाये हमने 
अपने जीवन के अर्थ।


एक नदी के दो किनारों की तरह,
साथ रहकर भी हम हैं अलग,
और अलग रहकर भी
हम हैं साथ-साथ।


इसी सम्बन्ध-सेतु ने ही
हमें मिलाया है, वह सेतु,
जिसे बड़े प्यार से 
हमने बनाया है।


जब भी हमें दूरी महसूस हुई, 
इससे पूर्व कि हम और दूर हो जाएँ,
हम उस पुल को देखते हैं,
जिसने अपनी बाँहों का
सहारा देकर हमें मिलाया है 
और, हमेशा हमेशा के लिए 
हमें और भी निकट ले आया है।


उसी सेतु के सहारे ही 
हम एक दूसरे को देखते,
स्पर्श और अनुभव करते हैं।


अब तो यह सब इतनी 
सहजता से होता है कि 
मुझे आश्चर्य भी नहीं होता। 


आश्चर्य तो मुझे तब होता है,
जबकि विरोध के समय
मन की गहराई से 
एक आवाज़ सी आती है-


'सबसे पहले दूसरे की बात सुनो 
और कुछ कहने से पहले सोचो',
मन में तुम्हारे है जो शूल,
शायद वह हो तुम्हारी ही भूल।


और सहसा विरोध की आँच 
और नहीं सुलगती है,
वरन वह तो क्रमशः 
धीमी पड़ने लगती है। 
 

विरोध की अग्नि में 
हमारा प्यार तपता है 
सोने सा निखरकर वह 
और भी दमकता है।


तभी तो कहती हूँ कि 
हमारे प्यार का प्रतीक 
है यह सेतु, जिसने 
हमें मिलाया है। 
जन्म-जन्मांतर के 
इस सम्बन्ध को 
और भी शाश्वत बनाया है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

व्यक्ति चित्र

हास्य-व्यंग्य कविता

स्मृति लेख

कविता

बच्चों के मुख से

पुस्तक समीक्षा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं