अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

डॉ. चकोर

आजकल डॉ. चकोर रोज़ उठकर उगते सूर्य को दोनों हाथ जोड़कर नमस्कार करना कतई नहीं भूलता है। उसके बाद ही वह नाश्ता करके उस ग़रीब बस्ती के कोने पर स्थित अपने "चकोर औषधालय" जाता है। मैट्रिक पास चकोर के पास यूँ तो कोई मेडिकल डिग्री नहीं है लेकिन तीन साल तक शहर के एक डॉक्टर के दवाखाने में नौकरी करने के बाद उसने जोड़-तोड़कर आरएमपी का लाइसेंस प्राप्त कर लिया था। वह अपने को पेट और गर्मी के रोगों का विशेषज्ञ बतलाता है। उसे डायरिया, कांस्टिपेशन, एसिडिटी, क्रैंप्स, डिहाइड्रेशन, पेप्टिक अल्सर, वोमिटिंग, इनडाइजेशन, टाइफाइड, हीट स्ट्रॉक, सनस्ट्रॉक, हाइपरथर्मिया, और इंफेक्शन जैसे शब्द याद हैं। इनको जब-तब बोलकर वह ग़रीब लोगों पर अपने ज्ञान का सिक्का जमा चुका है। गर्मी के दिनों में उसके पास जलजनित रोगों से पीड़ित ऐसे रोगी अधिक आते हैं। फलस्वरूप, वह रोज़ सुबह सूर्य को नमस्कार कर अपनी कृतज्ञता ज्ञापित करता है और उनसे इस गर्मी को बनाए रखने की प्रार्थना करता है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं