अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

एक अलौकिक प्रेम कहानी

एक थी लड़की नाम चंदना, एक था लड़का नाम जगत
उम्र यही बस पाँच छः बरस, आस पास दोनों के घर थे
संग संग दोनों पढ़ते थे, कच्ची उमर के पक्के साथी थे
इक दूजे में जान थी बसती, बचपन साथ गुज़रता था
 
जग्गू-चंदू बड़े हो रहे, उमर यही कुछ दस या ग्यारह
एक दिवस बस्तों को सँभाले, विद्यालय से लौट रहे थे
सहसा एक फूलों की दुकां पर, चंदू जाकर ठिठकी थी
सुन्दर लाल गुलाबों को वह, ललचाई सी देख रही थी
 
मोल से तब गुलाब को लेकर जग्गू ने चंदू को दिया था
सुन्दर लाल गुलाब को पाकर, चंदू बेहद आनंदित थी
सुर्ख़ दमकते फूल की ख़ुशबू, चंदा को बेहद पसंद थी
ये घटना थी सोमवार की, चंदा और जग्गा की कहानी
 
सात दिवस के बाद पुनः जब सोमवार दिन आया था
जग्गू फिर चंदू के लिए एक सुर्ख़ गुलाब ले आया था
बस इसके ही बाद से उसने एक नियम ही बनाया था
हर एक सोमवार को उसको वह गुलाब दे आता था
 
मौसम मौसम बीत चले थे, चुपके से यौवन आया था
चंदू जग्गू बड़े हो चले, उमर यही कोई सत्रह अठारह
इतने साल बीत चले पर, जग्गू ने नियम न तोड़ा था
गुलाब भेंट की विधि को जग्गू सदा निभा ले जाता था
 
जग्गू, चंदू बचपन के साथी थे, एक अनोखा रिश्ता था
प्रेम का गहरा बंधन था, पर कभी किसी ने कहा न था
समय का पहिया चलता था, नहीं कभी वह रुकता था
दहलीज़ खड़ा यौवन भी उनको मीठे सपने दे जाता था
 
पर हाय, प्रारब्ध में उनके, गहन जुदाई की तड़पन थी 
मात-पिता ने चंदा की सगाई अन्य कहीं करवाई थी
नैनों में थी प्रेम की बोली, मगर ज़ुबां पर ख़ामोशी थी
अजब थी उनकी प्रेम कहानी, जाने कैसी मजबूरी थी
 
सोमवार का दिन था जब, चंदू दुल्हन बनकर बैठी थी
सुर्ख़ गुलाब भेंटकर जग्गू अपना सब कुछ खो बैठा था
मौन प्रेम का दर्द छुपाकर, डोली में चंदा विदा हुई थी
अकथ पीर से व्याकुल जग्गू किंकर्तव्यविमूढ़ खड़ा था
 
नए शहर में नवजीवन में चंदा भी अब व्यस्त हो चली
हर एक सोमवार को लेकिन जग्गू की याद सताती थी
समय उड़ा फिर पंख लगाकर, साल बीतने वाला था
कई दिनों से जग्गू-चंदू की, मुलाक़ात भी नहीं हुई थी
 
एक शाम को, सोमवार को, चंदू बाहर टहल रही थी
तभी अचानक दरवाज़े पर सुर्ख़ गुलाब रखा पाया था
बहुत ख़ुशी से अचरज से उसने वह गुलाब उठाया था
जग्गू की यादों से उस पल, अपने मन को सजाया था
 
बात भूलकर अगले ही पल चंदू ने ख़ुद को सँभाला था
बात वो आई-गई हो गई, व्यस्त फिर उसका जीवन था
लेकिन अगले सोमवार को उसने, पुनः गुलाब पाया था
फिर हर सोमवार की संध्या यही एक क्रम दुहराया था
 
बड़ी अचंभित सी चंदा थी, बात समझ नहीं पाती थी
सुर्ख़ गुलाब रखने वाले को, देख कभी नहीं पाती थी
इक दिन मात-पिता से मिलने पीहर अपने पहुँची थी
जग्गू से मिलकर बतियाने को, उसे बड़ी उत्सुकता थी
 
लेकिन माँ की बातें सुन, अविरल आँसू बह निकले थे
"तेरे ब्याह के बाद ही बिटिया, जग्गू फ़ौजी बन बैठा था
कुछ ही महीने पहले वो, आतंकियों की बलि चढ़ा था
देश की ख़ातिर जीवन देकर, वीर शहीद कहलाया था"
 
लाल गुलाब का राज़ चंदना मन ही मन में जान गई थी
गहन अलौकिक प्रेम की चंदू स्वयं साक्षी बन बैठी थी
प्राण त्यागकर भी जग्गू, कच्चे धागे से बँधा हुआ था
बस यही अधूरी, अपरिभाषित जग्गू और चंदू कहानी
 
प्रेम का रिश्ता अजब अनोखा अकथ गूढ़ पहेली जैसा
देशकाल और जन्म से परे, प्रेम है रिश्ता केवल मन का
तन है नश्वर, प्रेम शाश्वत, कभी न माने देह की सीमा
जिसने गहरे प्रेम को पाया, धरती पर ही स्वर्ग को पाया

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं