अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कौन हूँ?

लकीर और तक़दीर का
संगम टटोलता हूँ
संघर्ष की राख में
ख़ुशी से मचलता हूँ॥
कौन हूँ? ...
संघर्ष से भयभीत प्राणी! 

बेटियाँ समाज में
होतीं प्रताड़ित
प्रतिध्वनि कराह की
चहुँदिश प्रसारित॥
कौन हूँ?…
सक्षम परन्तु मूक बधिर!

तन तरसता वस्त्र को
वस्त्र है, निर्वस्त्र क्यों?
ढका है तू देह से
मन तेरा निर्वस्त्र क्यों?
कौन हूँ?…
मानसिक रूप से निर्वस्त्र! 

अन्न की बर्बादी और
बढ़ती आबादी क्यों?
फँसा है मझधार में
पतवार से इनकार क्यों? 
कौन हूँ?...
मझधार को समर्पित निरीह॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

Viphai 2019/04/17 04:22 PM

Shandra rachna

सुनील कुमार 2019/04/06 04:36 PM

बहुत ही सुन्दर जहीर भाई। शुभकामनायें आपको।

Antara Sarkar 2019/04/06 02:00 PM

Very nice Zahir

Antara 2019/04/06 01:58 PM

Very nicely expressed.. Needs attention

Vaishali Chaudhary 2019/04/02 03:13 PM

Very well written...

Mehtab Alam 2019/04/02 08:16 AM

Masallah

Mehtab Alam 2019/04/02 07:40 AM

Masallah Bahut hi umda

Rashmi Agrahari 2019/04/02 05:50 AM

Sab kuch keh gaye apne es poem ke madhyam se.. Nice dear

Shivangi 2019/04/02 04:08 AM

Very nice

Ashok Kumar Chaudhary 2019/04/02 03:45 AM

अति सुंदर।

Rohan 2019/04/01 07:00 PM

Khoob likhte ho.

Shani 2019/04/01 06:30 PM

Apke alfass Dil Ko chu Gye...

Kartiki 2019/04/01 05:55 PM

Nice

Sandip 2019/04/01 05:40 PM

Mast hai sir ji

Himanshu 2019/04/01 05:20 PM

Very nice

Vandana Shukla 2019/04/01 05:10 PM

Nice

Shani chaudhary 2019/04/01 05:02 PM

संघर्ष ही अपने आप को लकीर और तकदीर से बहुत अलग रखती है क्यों की जहाँ संघर्ष है वहाँ लकीर और तकदीर अपने आप ही पीछे छूट जाते है

Sandeep kumar verma 2019/04/01 04:29 PM

Excellent ......keep it up

Ehtesham Khan 2019/04/01 04:13 PM

Amazing piece of writing.

Anwar Ali 2019/04/01 03:34 PM

Bahut badhiya bhaiya ji

Suryapratap Sharma 2019/04/01 03:27 PM

Well done Keep it up bro...

Manojkumar 2019/04/01 03:26 PM

I salute to you brother

Sudhanshu 2019/04/01 03:21 PM

Nice sir g

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

सामाजिक आलेख

नज़्म

लघुकथा

कविता - हाइकु

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं