अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नाइन एलेवन

मुझे लगा था कि मैं हज़ारों लोगों से घिरा हुआ हूँ और वे मेरे से पूछ रहे थे कि मैं वहाँ क्यों आया हूँ? मैंने देखा वे सब वहाँ घूमने वाले प्रत्येक इंसान से वही सवाल पूछ रहे थे। लोगों को उनका सवाल शायद सुनाई नहीं दे रहा था अन्यथा वे "चीज़" बोलते हुए यूँ अपनी तस्वीरें न खिंचवा रहे होते। सवाल पूछने वालों में हिन्दू, मुसलमान, ईसाई, यहूदी, बौद्ध, आस्तिक, नास्तिक सभी तो शामिल थे। वे दुनिया के लगभग सभी छोटे-बड़े देशों से थे। वहाँ कोने की तरफ शबीर अहमद, पीटर एल्डरमैन, राजेश खण्डेलवाल, तारिक़ अमानुल्लाह और मैंडी चांग नज़र आए तो ठीक मेरी बायीं तरफ पैट्रिक जे ब्राउन, नरेंद्र नाथ, मुहम्मद शाजहाँ, नज़म ए हाफ़िज, क्युंग ही चो और मनीष पटेल खड़े मुझे घूर रहे थे। मुझे उनका सवाल पीड़ा पहुँचाने लगा। सचमुच मैं वहाँ आखिर क्यों आया था? यह तो मैंने वहाँ जाने से पहले गहराई से सोचा ही न था। मैं उस भीड़ को चीरता हुआ आगे बढ़ा तो मैं जिससे टकराया वह एक जीता-जागता इंसान था। सॉरी कहते हुए मैं अपने ख्यालों की दुनिया से बाहर आ चुका था। मैंने अपने पीछे चल रही अपनी बेटी से कहा, "मैं 11 सितंबर 2001 के दिन वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के ट्विन टावर्स पर हुए उस हमले को पूरी दुनिया के प्रति किया गया एक जघन्य अपराध मानता हूँ। वे लोग जो जिनकी यादगार में ये "मेमोरियल्स" बनाए गए हैं, हम सभी को उनको श्रद्धांजलि देने यहाँ, इस मैनहटन, न्यूयॉर्क में बने "9 / 11 मेमोरियल एंड म्यूजियम" में जरूर आना चाहिए।

काश, उस हमले में मारे गए शबीर अहमद, पीटर एल्डरमैन, राजेश खण्डेलवाल, तारिक़ अमानुल्लाह और मैंडी चांग जैसे सभी तीन हज़ार निर्दोष लोग भी मेरी यह बात सुन पाते।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं