अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्कॉउण्ड्रल

वे मेरे परिचित हैं। यह परिचय फेसबुक के माध्यम से हुआ। वे अक्सर बड़े लोगों द्वारा कही बातों ( क्वोटेशन्स ) को अंग्रेज़ी या हिंदी में अपने नाम से पोस्ट किया करते हैं।

ख़ैर, अच्छी बातें किसी ने भी कही हों, उनका प्रचार-प्रसार होना चाहिए। बहरहाल, वे मेरे ही शहर से हैं। संयोगवश एक बार किसी जगह मुलाक़ात हुई तो पता चला कि हम दोनों तो फेसबुक में पिछले चार वर्षों से मित्र हैं। ख़ैर, इधर कुछ महीनों से उन्हें एक नया रोग लग गया है। वे अपने विचार फेसबुक पर पोस्ट करते हैं और फिर उसके नीचे लिखते हैं - "अगर आप सच्चे देशभक्त हैं तो इस पोस्ट को ज़रूर शेयर करें।" मुझे कभी यह समझ न आया कि उनका ऐसे लिखने के पीछे क्या मंतव्य हो सकता है? ख़ैर, मुझे लंबा इन्तजार नहीं करना पड़ा। कल शाम उनसे फिर अचानक राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर फिर मुलाक़ात हुई तो मैंने उनसे सीधे पूछ लिया कि ये सच्चा देश भक्त क्या होता है? वे हँसते हुए बोले - "अगला चुनाव लड़ने का इरादा है। पोस्ट शेयर करवाकर अभी से अपने प्रचार में जुटा हूँ। सोशल मीडिया में बड़ी ताक़त है। " फिर कुछ देर सोचने के बाद वे चलते हुए बोले, "मेरी मेट्रो आने वाली है। यूँ आपने तो ज़रूर पढ़ा-सुना होगा "पेट्रिऑटिज़्म इज़ द लास्ट रेफ्यूज ऑफ़ अ स्कॉउण्ड्रल"।"

मैं उनसे सम्युल जॉनसन की इस उक्ति (कोटेशन) को सुनकर अभी तक अचंभे में हूँ। लगता है या तो उन्हें "स्कॉउण्ड्रल"' शब्द का अर्थ मालूम नहीं है अथवा वे देश की राजनैतिक स्थिति से पूरी तरह से वाकिफ़ हैं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं