अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

उपहार

शोक-मग्न है भावी पीढ़ी कैसा यह उपहार!
हवा विषैली, दूषित पानी एवम् नग्न पहाड़।
 
रोटी और दाल के लिए लड़ रहे थे लोग,
अब तो हवा, पानी को झगड़ रहेंगे लोग।
 
समय एक औज़ार है और अनुभव है कर्मकार,
मानव अनगढ़ शिलाखण्ड, गढ़ता करता तैयार।
 
शुचि, सुंदर व सर्वहित डाल मनुज हर परम्परा,
सुधिजन लें अवतार तथा सभ्य रहे यह सभ्यता।
 
सृष्टि निपट निराश्रित अपने में सम्पूर्ण,
स्रष्टा भी इस हेतु है साष्टांग सम्पूर्ण।
 
चला तो था मैं पूछने उस ईश का पता,
राह में मोह, भ्रम, लिप्सा था नंगा खड़ा।
 
रुक गया मैं भी तमाशबीनों की तरह,
व्याकरण सारे जीवन के गया गड़बड़ा।
 
तब गणित खोलकर बाँचने मैं लगा,
अंक को किन्तु, अक्षर बना न सका।
 
सूत्र को रौंद-रौंद पतला करता रहा,
मैं बना न सका मिट्टी को पर, घड़ा।
 
सूर, तुलसी को पूछा है क्या ज़िन्दगी?
जो इंगित किया कबीर का था पढ़ा।
 
मोक्ष के लिए मृत्यु अनिवार्य है,
मोक्ष ने भी कहा कृष्ण ने था कहा।
 
मन में कुंठा लिए, तन में एवम् तपन, 
इंद्र के द्वार देखता दुखित हो चला।
 
भोग के मोह से भाग्य के जाल में,
सारे जीवन के तन्तु पिघल-गल गया।
 
कितना! बेताब था, युद्ध को मेरा मन,
शस्त्र सारे गिने पर,भटकता रह गया।
 
कृष्ण को ढूँढ़ता, कुरुक्षेत्र खोजता,
मन कितना रुआँसा था होता रहा।
 
कोख से ख़ाली सब हैं जनमते रहे,
वसीयत कुछ को क्यों सब थमाता रहा।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कविता - हाइकु

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं