अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रीति अग्रवाल ’अनुजा’ – 008

1.
जाने
किस बात का
मन में, रह गया
मलाल अब तक . . . .
लड़कर तक़दीर से
भला कोई,
जीता है अब तक . . . .?
2.
रूह, ढूँढ़े है वो दर,
जहाँ
सुकून मिल जाये…...
पर
हाय! री क़िस्मत!
तू पहले ही पहुँच जाए...!
3.
ज़ख़्म उसने दिए
तो मरहम भी
वही देगी . . . ..
ज़िंदगी है,
कुछ दे, न दे,
दग़ा, नहीं देगी . . . !
4.
जो वादे
किये भी न थे,
उसने, वो भी
निभा डाले . . . 
मेरे महबूब को
क्या ख़ूब बनाया
बनाने वाले . . . .!
5.
जाने
कौन सी थी
वो बात,
जो मन में
चुभ गई . . . 
काँटा
निकल गया,
पर टीस 
रह गई . . . !
6.
इन परिंदों को,
जाने कौन
पनाह देता है . . . ?
आदमी
हो नहीं सकता,
वो सिर्फ़,
दग़ा देता है . . . !
7.
तुम
ख़्वाबों को
तरसते हो,
सोचो . . . 
जाने
कितने,
बिछौनों को
तरसते होंगे...!
8.
क्या पाया
अब तक,
क्या
खोया हमनें . . . 
इस
उलझन में,
लो, नींद भी
गँवाई हमने . . . !
9.
आती है
तेरी याद,
दिल, चुपके से
रोता है . . . 
क्या तेरे
परदेस में भी,
तन्हाई-जैसा
कुछ होता है . . . ?
10.
राख के ढेर को
बेकार ही,
कुरेदा न करो . . . 
चिंगारी, कोई भड़की
तो
क़यामत होगी . . . !
11.
नशा
तो है नशा,
इश्क़, इससे
जुदा नहीं . . . 
मतवाला
कोई कहलाया,
तो
दीवाना है कोई . . . !
12.
कहा था
यादों से,
न आना, न सताना
मुझको . . . 
ज़िद की मारी हैं
बैरन, न मानी,
चली आईं
देखो . . . !

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनुभूति बोध
|

सदियाँ गुज़र जाती हैं अनुभूति का बोध उगने…

अनुभूतियाँ–001 : 'अनुजा’
|

1. हर लम्हा है मंज़िल, अरे बेख़बर! ये न लौटेगा…

अलगाव
|

रिश्तों में भौतिक रूप से अलगाव हो सकता है,…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - क्षणिका

हास्य-व्यंग्य कविता

लघुकथा

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं