अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

उपहार

"ब्रेड ले लो... ब्रेड,"... आवाज़ सुनकर वे बच्ची के लिये ब्रेड लेने बाहर आये तो देखकर अवाक रह गये। ब्रेड बेचने वाला उनकी ही कक्षा का छात्र दीपेश था।

"दीपेश तुम..?"

"हाँ सर। घर में कमाने वाला कोई नहीं है। माँ और मैं हूँ। इसीलिये घर के खर्च के लिये यह ज़रूरी है," वह बोला।

"ठीक है। अच्छी बात है। परंतु पैदल?"  

"मेरे पास साइकिल नहीं है,सर। जो थी वह चोरी हो गई।"

"अरे! परंतु ऐसे में स्कूल आने में देर हो जायेगी, तब?"

"नहीं होगी, सर। मैं ब्रेड कितनों दिनों से बेच रहा हूँ। कभी स्कूल पहुँचने में देर नहीं हुई। आपको तो मालूम है। मैं नियमित और समय पर स्कूल आता हूँ।"

"हाँ, और न ही कभी तुमने पढ़ाई में शिकायत का मौक़ा दिया। हर कार्य समय पर पूरा करते हो। बहुत अच्छे...शाबाश! "

उसे दस रुपये देते हुये बोले, "एक दस रुपये वाला ब्रेड का पैकेट दे दो।"

दीपेश उन्हें पैकेट देकर बोला, "सर, रुपये रहने दीजिये।"

"नहीं... नहीं रुपये तो लेने पड़ेंगे और लेने भी चाहियें," वे बोले।

"ठीक है सर," दीपेश ने कहते हुये उनसे रुपये ले लिये।

"ज़रा रुकना बेटा, मैं अभी आया," कहते हुये वे भीतर गये और एक साईकिल खींचते हुये बाहर आये ।उसे दीपेश को देते हुये बोले, "मेरे पास एक साइकिल है,अच्छी हालत में है। मैं तुम्हारी मेहनत और लगन से बहुत ख़ुश हूँ। तुम, मेरी तरफ़ से इसे उपहार के रूप में ले लो; मुझे ख़ुशी होगी।"

दीपेश सकुचाया।

"कुछ नहीं सोचो। मैं तुम्हारा शिक्षक हूँ। तुम्हारी भलाई वाला ही काम करूँगा। ले जाओ। ख़ूब पढ़ो और अपने परिवार का ध्यान रखो। शाबाश!" उन्होंने समझाया तो दीपेश वह साईकिल लेकर ख़ुश होकर चला गया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता

कविता - हाइकु

बाल साहित्य कविता

कविता

किशोर साहित्य आलेख

बाल साहित्य आलेख

अपनी बात

किशोर साहित्य लघुकथा

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य कविता

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं