अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

औक़ात

सुबह के नौ बज चुके थे लेकिन अभी तक न तो जेलर के घर से चाय-नाश्ता आया था और न जेलर ख़ुद उसका हाल-चाल जानने आए थे। उसने जेब से अपना स्मार्ट फोन निकाला और जेलर का नंबर मिलाया। बात नहीं बनी। उनका फोन ऑफ़ था। तभी उसकी निगाह सींखचों के बाहर से गुज़रते हुए सिपाही दूलीचंद पर पड़ी। उसने ज़ोर से कहा, "दूली चंद..." तो दूलीचंद चलते-चलते बोला, "अबे अभी भी तुझे अपनी औक़ात समझ नहीं आई। अब तमीज़ से बोलना सीख ले।"

दूलीचंद आँखों से ओझल हुआ ही था कि तभी उसकी कोठरी के सामने दो सिपाही आए और बोले, "तेरा  ये महँगा मोबाइल जेलर साहब ने मँगवाया है। फटाफट पकड़ा। सीबीआई वाले तेरी ख़िदमत करने आ रहे हैं।"

मौक़े की नज़ाकत को समझते हुए उसने उनके आदेश का पालन किया। उसने मोबाइल के साथ-साथ उन्हें वे बीस हज़ार रुपये भी पकड़ा दिए जो परसों एक परिचित ने उसके लिए किसी इंस्पेक्टर के हाथ भिजवाए थे।

ख़ैर, कल जो कुछ हुआ, उसे सुनकर वह यह तो समझ गया था कि अब उसे उसके कुकर्मों की सज़ा मिलने वाली है। अफ़सोस तो उसे सिर्फ़ इस बात का था कि कल तक उसके सामने दुम हिलाने वाले कल के फ़ैसलों के बाद उस पर गुर्राने लगे हैं। जेल में आने के बाद आज पहली बार उसे अपनी असली औक़ात का पता चल रहा था।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं