अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

दाह

दरवाज़े पर कड़कदार खट-खट का जबाब दीना को देना ही पड़ा। दरवाज़ा खोलने से पहले उसने एक लाचार नज़र घर की औरतों पर डाली। अपने एक कमरे के इस झोंपड़े में वे सिर ढके, अपने में कुछ और सिकुड़ गईं। 

"क्या रे, सुना बेटी का दाह-कर्म भी कर दिया?" पुलिस के बड़े अधिकारी के स्वर में तीखापन था। पीछे मीडिया के लोग अपने माइक और कैमरे खोले सारे क़िस्से को दिखाने को आतुर! टोले वालों को छोड़ कर गाँव भर के लगभग १०० लोग जमा थे।

"इतनी जल्दी क्या थी? कितने लोग उसके दाह को पूरे देश को दिखाना चाहते थे, जानते हो? पूरे देश की बिटिया थी वो और तुमने अकेले ही सब चुपचाप कर दिया?"

"साहब, तीन दिन बाद अस्पताल से शरीर मिला, और कितने दिन रखते? बलात्कार और मौत की सब जाँच हो तो गई थी,” दीना ने सफ़ाई दी। "उसे देखने आने के बहाने जाने कितने ऊँची-नीची जातियों के लोग, नेता, ये कैमरे वाले, हमारे घर की लड़कियों, टोले की दूसरी लड़कियों और बहुओं का अपनी नज़रों से बलात्कार कर रहे थे, उसे तो चलने नहीं दिया जा सकता था सो निपटा दिया सब! वो तो मर गई पर बाकी को जिन्दा ल्हास कैसे बना दें? हमें नहीं बनाना इन्हें इस देश की बिटिया!"

उसके शब्दों की सच्चाई काँच की तरह कैमरे को चुभी और एकाएक स्क्रीन पर छुपती, सिमटती, सिसकती, शोक से बिलखती औरतों के चेहरों को लीलती मक्कार और लोलुप नज़रें पल भर को झुक गईं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

साहित्यिक आलेख

पुस्तक चर्चा

कविता

नज़्म

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

कविता-मुक्तक

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं