अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जीवन मूल्य

"क्या आपको नहीं लगता कि हम अपने आदर्शों को भूल गए; हम उन जीवन मूल्यों को भूल गए जो हज़ारों साल पहले हमारे ऋषि-मुनियों ने गहराई से सोच-विचार करने के बाद हमारे लिए तय किये थे?" इतना कहने के बाद उस अधेड़ इंसान ने अपने गले में लटकाए साफे के दाएँ छोर से अपना मुँह पोंछा। उससे मेरा परिचय आधा घंटे पहले तब हुआ था जब वह दिल्ली से देहरादून जाने वाली उस शताब्दी एक्सप्रेस में सहारनपुर से सवार हुआ था।

ग़लती मेरी थी। समय काटने के लिए मैंने ही उससे पूछा था कि क्या वह भी देहरादून जा रहा है। ख़ैर, हाँ कहने के बाद वह सीधे सनातन धर्म पर चर्चा करने लगा। उसका मानना था कि स्कूलों में शुरुआत से ही बच्चों को धार्मिक शिक्षा दी जानी चाहिए। जब मैंने इस बारे में अपनी असहमति जताई तो वह आवेश में आ गया और उसने सीधे मुझसे ये सवाल किए जिन्हें उस जैसे लोग अक्सर किया करते हैं।

उसके इन सवालों का जवाब देने के बजाय मैंने मुस्कराते हुए उससे पूछा, "क्या आप अपने पिता जी के दादा-दादी का नाम जानते हैं?"

उसने सर खुजाते हुए तपाक से कहा, "नहीं तो।"

उसके बाद वह चुपचाप थैले से अख़बार निकाल कर पढ़ने लगा और मैं आँखें बंद कर अपनी बूढ़ी दादी के बारे में सोचने लगा। मैं भी नहीं जानता कि उनका नाम क्या था?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं