अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पवनार आश्रम 

पवनार एक ऐतिहासिक गाँव है जो महाराष्ट्र के वर्धा जिले में धाम नदी के तट पर बसा है। यह गाँव ज़िले की सबसे प्राचीन बस्तियों में एक है। राजपूत राजा पवन के नाम पर इसका नाम पवनार पड़ा। गाँव में गाँधी कुटी और आचार्य विनोबा भावे का परमधाम आश्रम देखा जा सकता है।

कार्यालयीन कामकाज हेतु वर्धा जाना हुआ था। सरकारी काम निपटाने के बाद वर्धा स्थित मित्र को लेकर विनोबा भावे जी द्वारा स्थापित पवनार आश्रम की ओर निकल पड़े।

विनोबा जी के भूदान आंदोलन में सहयोग देने हेतु देश के विभिन्न प्रांतों से युवा महिलाएँ आती थीं। उन महिलाओं ने सामाजिक कार्य हेतु ब्रह्मचर्य को अपनाया। 

विनोबा के जीवनकाल में उन्होंने आश्रम के बाहर आंदोलनों में कई बार हिस्सा लिया। भूदान आंदोलन (1951) में भागीदारी के अलावा आश्रम की शुरुआत (1959) के तुरंत बाद 1961 में बिहार के सहरसा ज़िले में बीघा–कट्ठा आंदोलन में आश्रम की महिलाओं ने भाग लिया।

1978-79 में गोहत्या-बंदी आंदोलन में आश्रम की औरतें शामिल हुई थी और 1973 में गीता के प्रचार के लिए विनोबा ने उन्हें मुंबई भेजा।

1982 में विनोबा की मृत्यु के बाद महिलाएँ आश्रम की नित्य नियम के अनुसार आध्यात्मिक उन्नति के लिए जीवन ज्ञापन करने लगी। 

15 वर्ष पूर्व की बात है, जब मैं सरकारी काम निपटाकर मेरे मित्र के साथ विनोबा जी के पवनार आश्रम देखने निकल पड़ा।

इस आश्रम में औरतें 70-75 की उम्र के पार हैं। ये औरतें ब्रह्मचारिणी का जीवन जी रही हैं। बात उस समय की है जब मोबाइल का आगमन हुआ नहीं था। अलग-अलग दूर फैले हुए चाल जैसे मकानों में बुज़ुर्ग महिलाएँ आश्रम में रहती है। विनोबा भावे के आंदोलन के दौरान अनेक युवतियों ने ब्रह्मचारी जीवन अपनाकर आश्रम में दाख़िल हुई थीं।आज उनकी हालत देखकर दुःख होता है।आश्रम में तब एक टेलीफोन गेट के पास रखा था। जब टेलीफोन की घंटी बजती थी तो अनेक बुज़ुर्ग महिलाएँ भागती-हाँफती टेलीफोन के पास जमा हो जाती थीं। उन्हें प्रतीक्षा रहती थी कि परिवारवाले कभी फोन करें, उनसे बात करें। एक 80 साल की बुज़ुर्ग महिला मेरे पास आयी। उसने मेरा गाँव पूछा, बाल बच्चे के बारे में पूछा।

जब उसे पता चला कि मैं दूरसंचार विभाग में कार्यरत हूँ तो उसकी आँखें याचना के साथ खिल उठीं। कहने लगीं,  "बेटा एक टेलीफोन इंस्ट्रुमेंट मेरे कमरे के पास लगवाना। अब मैं थक गई हूँ। फोन के लिए इतने दूर दौड़ नहीं सकती हूँ।" 

आश्रम के गेट पर एक टेलीफोन और आश्रम में तब 30 बुज़ुर्ग महिलाएँ रहती थीं। फोन की घंटी बजकर बंद हो जाती जब तक वे वहाँ पहुँच जाती थी। 

उनकी यह दयनीय स्थिति देखकर मन द्रवित हुआ। जिन्होंने अपनी युवावस्था में अपनी निजी भावनाओं को दूर रखकर देश के आंदोलन में भाग लिया था, अब उनकी वृद्धावस्था की चिंता किसे है?

मैंने एक आवेदन वर्धा दूरसंचार को लिखा था। वर्धा के दूरसंचार के उच्च अधिकारी से बात की। सामाजिक दायित्व के नियमानुसार वहाँ दूसरा फ़ोन उन बुज़ुर्ग महिलाओं के क्वार्टर के बीच लगा दिया गया।

ख़ैर, मैं वहाँ टेलीफोन की व्यवस्था कर सकता था लेकिन उनकी ख़ुशी के लिए परिवार वालों की घंटी कैसे करता?

15 अगस्त नज़दीक था और रेडियो पर जागृति फ़िल्म का गीत बज रहा था -

"हम लाये हैं तूफ़ान से किश्ती निकाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चो सँभाल के
तुम ही भविष्य हो मेरे भारत विशाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चो सँभाल के"...

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अविस्मरणीय पड़ोसी – विल्डे
|

लम्बी अवधि से हम किसी से परिचित होकर भी…

उत्तर भारत का जाड़ा
|

यूँ तो यह कविता 2011 में लिखी थी परंतु 2014…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं