अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शहरी लड़के

जैसा कुछ दिन पहले मेरे  मित्र चकोर के साथ हुआ, वैसा मेरे या आपके साथ भी हो सकता है यदि हम भी चकोर की तरह किसी छोटे से गाँव में जन्में हों और फिर स्कूल-कॉलेज की शिक्षा ग्रहण करने के बाद हमने शहर जाकर गाँव से रिश्ता तोड़ दिया हो।

ख़ैर, हुआ यूँ कि पच्चीस वर्ष की आयु में गाँव से निकलने के बाद चकोर  वहाँ साठ वर्ष की आयु में  फिर तब आये जब गाँव में रिश्ते में उनके एक चचेरे भाई कमल ने गाँव में वर्षों बाद होने वाले माँ भगवती के विशाल जागरण में उनसे आने का आग्रह किया। जागरण से एक दिन पहले वे अपने गाँव के नज़दीक के क़स्बे कोटद्वार ट्रेन से पहुँचे। फिर वहाँ से अपने पहाड़ी गाँव के लिए वे बस में बैठे तो ड्राइवर ने उन्हें बताया कि अभी बस चलने में आधा घंटे का समय है। चकोर जी बस से उतरे और फिर वे पास के एक खोखे पर चाय पीने चले गए। कोई बीस-पच्चीस मिनट बाद जब वे बस में वापस चढ़े तो उन्होंने देखा कि वे जिस सीट पर बैठे थे, अब उस पर एक युवक बैठा हुआ था। जब चकोर जी ने उस युवक को अन्यत्र बैठने के लिए कहा तो वह लापरवाही से बोला, “इस सीट पर आपका नाम तो नहीं खुदा है; आप भी तो कहीं और बैठ सकते हैं।”

इतना कहकर वह युवक अपने साथी से हँसते हुए बोला, “राजू, इस बस में भी लोग रिज़र्वेशन करने लगे हैं और वह भी मुफ़्त में। "

बहरहाल, चकोर जी बिना कोई बहस किए चुपचाप अगले दरवाज़े से सटी सीट पर बैठ गए। कोई तीन घंटे बाद वे जब अपने गाँव पहुँचे तो उनका चचेरा भाई उनके स्वागत के लिए बस स्टैंड पर खड़ा था। यह देख चकोर जी बहुत ख़ुश हुए। तभी वह युवक और उसका साथी बस से उतरे तो उनके चचेरे भाई ने उस युवक से कहा, “समीर, इधर आ; ताऊ जी को प्रणाम कर।”

कमल के मुँह से यह सुनकर चकोर को यक़ीन हो गया कि देर से ही सही, उनके गाँव के लड़के भी अब 'शहरीक' हो गए हैं।    

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंतर 
|

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है,…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सांस्कृतिक कथा

कविता - हाइकु

लघुकथा

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं