अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

भूख (डॉ. शैलजा सक्सेना)

आलू की बोरी के जैसे वह धड़ाम से गिरी थी सड़क पर। उसे इस तरह से धक्का देकर फेंक देने वाली कार, सैकेंडों में आगे निकल चुकी थी। कुछ देर ऐसे ही अचेत पड़ी रही। थोड़े मैले-कुचैले से कपड़े, धूल की परतों में लिपटा हुआ चेहरा, हाथों और गर्दन पर कुछ खरोंचों के निशान . . .!  आसपास के लोगों ने चौंक कर, जाती हुई कार को देखा, फिर सड़क पर पड़ी हुई उस भिखारन जैसी औरत को भी देखा और एक क्षण के बाद ही अपनी हैरानी पर क़ाबू पाकर वापस अपने-अपने कामों में लग गए। किसी के पास उस औरत को देने के लिए दो मिनट का समय या फ़िक्र नहीं थी और फिर औक़ात भी तो चाहिए इस फ़िक्र को पाने के लिए! कोई अच्छे घर की, साफ़-सुथरे कपड़े पहने हुए औरत वहाँ गिरती तो उनकी चिंता का, ख़बर का या उनके समय का हिस्सा बनती। इस भिखारन जैसी औरत को वे अपनी चिंता और समय भीख में नहीं दे पाए।

जाने कितनी देर ऐसी ही अचेत पड़ी रही वह! जब होश आया तो पहले तो उसे कुछ समझ ही नहीं आया कि वह कहाँ है? फिर धीरे-धीरे अपने चोट खाए बदन को सँभालती वह उठी। हाथ और चेहरे की मिट्टी को झाड़ते हुए उसने आसपास देखा और जाना कि वह बाज़ार की सड़क पर पड़ी है। चेहरा साफ़ करते हुए, उसके होठों  और जीभ ने आधे खाए डबल को याद किया जिसे दिखाकर वे लोग उसे गाड़ी में बिठा ले गए थे। अपनी थेगली लगी धोती को समेट कर वह खड़ी हो गई। कमर और नीचे बहुत दर्द था। उसे अपने साथ हुई कोई बात याद नहीं आ रही थी, आँखों के सामने केवल वह खाना था जिसे वह पूरा खा नहीं पाई थी, अगर वह मिल जाता तो . . .! तीख़ी भूख मुँह से पेट तक खिंची, पेट खरौंच रही थी। चार-पाँच क़दम चली तो अपना फटा झोला भी दिखाई दिया साथ ही काग़ज़ में लिपटा डबल भी, जो खुलकर आधा सड़क पर आ गिरा था। उसने  लगभग लपक कर पहले डबल और फिर झोला उठाया और डबल से धूल झाड़ती, फ़ुटपाथ के किनारे बैठ कर उसे खाने को हुई। होंठ तक बर्गर लाने के साथ ही उसकी रीढ़ की हड्डी के नीचे से सिर के ऊपरी नोक तक दर्द की तेज़ लहर बदन में फैल गई तो वह तड़प उठी। हाथ में पकड़े बर्गर को उसने फिर धूल में फेंक दिया और अपने गर्दन को दोनों हाथों से पकड़ कर रीढ़ की हड्डी को दबाने लगी। उसने बर्गर को नफ़रत से देखते हुए मुँह घुमा कर थूक दिया और बुदबुदाई- "मुझको खा कर, मुझे खाना देने की हिम्मत करते हैं भुक्खड़! नीच!!" 

पास खड़े खाए-अघाए, भुक्खड़ लोगों की निगाहें शर्म से झुक गईं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

साहित्यिक आलेख

पुस्तक चर्चा

कविता

नज़्म

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

कविता-मुक्तक

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं