अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ब्रूउट्स यू टू

थोड़े आँसू
थोड़े सपने
और ढेर से सवालों के साथ
तेरी नीमकश निगाहों में जब देखता हूँ
बहुत तड़पता हूँ
 
इसपर तेरा हल्के से मुस्कुराना
मुझे अंदर-ही-अंदर सालता है
तेरा ख़ामोशी भरा इंतक़ाम
मेरे झूठे ,बनावटी
और मतलबी चरित्र के आवरण को
मेरे अंदर ही खोल के रख देता है
 
मैं सचमुच कभी भी नहीं था
तुम्हारे उतने सच्चे प्यार के क़ाबिल
जितने के बारे में मैंने सिर्फ़
फ़रिश्तों और परियों की कहानियों में पढ़ा था
 
मैं तुम्हें सिवा धोखे के
नहीं दे पाया कुछ भी
और तुम देती रही
हर बार माफ़ी क्योंकि
तुम प्यार करना जानती थी
 
मैं बस सिमटा रहा अपने तक
और तुम
ख़ुद को समेटती रही
मेरे लिए
कभी कुछ भी नहीं माँगा तुमने
 
सिवाय मेरी हो जाने की
हसरत के
 
याद है वो दिन भी जब
तुमने मुझसे दूर जाते हुए
नम आँखों और मुस्कुराते लबों के साथ
कागज़ का एक टुकड़ा
चुपके से पकड़ाया
जिसमें लिखा था- "ब्रूउट्स यू टू?''
 
उसने जो लिखा था वो,
शेक्स्पीअर के नाटक की
एक पंक्ति मात्र थी लेकिन ,
मैं बता नहीं सकता क़ि
वह मेरे लिए
कितना मुश्किल सवाल था
आज भी वो एक पंक्ति
कंपा देती है पूरा जिस्म
रुला देती है पूरी रात
 
ख़ुद की इस बेबसी को
घृणा की अनंत सीमाओं तक
ज़िंदगी की आख़री साँस तक
जीने के लिए अभिशप्त हूँ
उसके इन शब्दों /सवालों के साथ कि
ब्रूउट्स यू टू!
ब्रूउट्स यू टू!
ब्रूउट्स यू टू!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध

साहित्यिक आलेख

सामाजिक आलेख

कविता

कविता - क्षणिका

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं