अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

काश तुम मिलती तो बताता

यूँ ही तुम्हे सोचते हुए
सोचता हूँ कि चंद लकीरों से तेरा चेहरा बना दूँ
फिर उस चेहरे में,
ख़ूबसूरती के सारे रंग भर दूँ ।


तुझे इस तरह बनाते और सँवारते हुए,
शायद ख़ुद को बिखरने से रोक पाऊँगा
पर जब भी कोशिश की,
हर बार नाकाम रहा।


कोई भी रंग,
कोई भी तस्वीर,
तेरे मुकाबले में टिक ही नहीं पाते।


तुझसा,हू-ब-हू तुझ सा,
तो बस तू है या फिर
तेरा अक्स है जो मेरी आँखों में बसा है।

वो अक्स जिसमें
प्यार के रंग हैं
रिश्तों की रंगोली है
कुछ जागते -बुझते सपने हैं
दबी हुई सी कुछ बेचैनी है
और इन सब के साथ,
थोड़ी हवस भी है।


इन आँखों में ही
तू है
तेरा ख़्वाब है
तेरी उम्मीद है
तेरा जिस्म है
और हैं वो ख़्वाहिशें,
जो तेरे बाद
तेरी अमानत के तौर पे
मेरे पास ही रह गयी हैं।


मैं जानता हूँ की मेरी ख़्वाहिशें,
अब किसी और की ज़िन्दगी है.
इस कारण अब इन ख़्वाहिशों के दायरे से
मेरा बाहर रहना ही बेहतर है।


लेकिन, कभी-कभी
मैं यूँ भी सोच लेता हूँ कि -
काश
-कोई मुलाक़ात
-कोई बात
-कोई जज़्बात
-कोई एक रात
-या कि कोई दिन ही
बीत जाए तेरे पहलू में फिर
वैसे ही जैसे कभी बीते थे
तेरी ज़ुल्फों क़ी छाँव के नीचे
तेरे सुर्ख लबों के साथ
तेरे जिस्म के ताजमहल के साथ।


इंसान तो हूँ पर क्या करूँ
दरिंदगी का भी थोड़ा सा ख़्वाब रखता हूँ
कुछ हसीन गुनाह ऐसे हैं,
जिनका अपने सर पे इल्ज़ाम रखता हूँ।


और यह सब इस लिए क्योंकि,
हर आती-जाती सांस के बीच
मैं आज भी
तेरी उम्मीद रखता हूँ।


इन सब के बावजूद,
मैं यह जानता हूँ कि-
मोहब्बत निभाने क़ी सारी रस्में, सारी कसमें
बग़ावत के सारे हथियार छीन लेती हैं।
और छोड़ देती हैं हम जैसों को
अश्वत्थामा की तरह
ज़िन्दगी भर
मरते हुवे जीने के लिए
प्यार क़ी कीमत,
चुकाने के लिए
ताश के बावन पत्तों में,
जोकर क़ी तरह मुस्कुराने के लिए


काश, तुम मिलती तो बताता,
कि मैं किस तरह खो चुका हूँ ख़ुद को,
तुम्हारे ही अंदर।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध

साहित्यिक आलेख

सामाजिक आलेख

कविता

कविता - क्षणिका

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं