अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

खाली आँखें

पड़ोस का कल्लू पुलिस वाले के साथ लगभग भागता हुआ सा आ रहा था जब रामरती ने उसे देखा।

“ये ही है जी किसना मजूर की बीबी”।

पुलिस वाले ने अजीब निगाहों से उसके लाल मुँह को देखा..आँख के नीचे सुबह की मार का कालापन मौजूद था, गाल पर किसना के हाथ की अँगुलियों की छाप जैसे अभी भी मौजूद थी। उसके हाथ बर्तन माँजते-माँजते रुक गये...मन का कसैलापन होंठों तक उमड़ने को था, “अब क्या कर दिया मुए ने।”

सिपाही ने रामरती की प्रश्नवाचक निगाहों के उत्तर में केवल इतना कहा.. “थाने चलना होगा, अभी साथ में।"

हाथ धोकर जब तक वह झुग्गी से बाहर आई, औरतों, बच्चों और काम पर जाने से पीछे छूट जाने वाले ६-७ मर्दों का एक छोटा सा हुजूम वहाँ जमा हो गया था। कल्लू किसी के कान में फुसफुसा कर कुछ कह रहा था। रामरती जब चली तो तरस खाने वाली निगाहों से देखते हुए उसके साथ कई लोग चल पड़े। वह कुछ घबरा तो गई थी, पर उसे यही लगा कि पैसों के लिये उसकी कुटाई कर के जब किसना निकला होगा तो भिड़ गया होगा किसी से, अब बंद पड़ा होगा हवालात में, उसका बस चले तो कभी न छुड़ा कर लाये...“साला, हरामी”..सुबह की बकी गालियाँ उसकी ज़ुबान पर लौटने लगीं..चार साल हो गये उसकी शादी को और चार साल हो गये उसे लात, घूँसे खाते हुए, आज तो बाहर निकलने से पहले ही पीटना शुरू कर दिया था, और जब किसना ने नाभि के नीचे उसे लात मारी थी, तो वह चंडी बन गई थी, गालियाँ देती जब वह उसकी तरफ झपटी तो किसना झुग्गी से तीर की तरह निकल गया था..लगभग भागते हुए। पर रामरती की ऊँची आवाज़ ने उसका पीछा किया था.. "तू मर क्यों नहीं जाता..साला..हरामी...” और नाभि के नीचे अपने बढ़े हुए हर्निया को पकड़ कर वह १० मिनट तक कराहती रही थी....

और जब थाने में आकर थानेदार ने यांत्रिक ढँग से उठकर बेंच पर पडे किसी सामान के ऊपर से कपड़ा हटा गया था..तो उसे झुरझुरी आ गई थी। सामने ट्रेन से कटी, खून में लिथड़ी किसना की लाश पड़ी थी।...दो मिनट तक वह सुध भूल कर भौंचक्की सी उसे ताकती रही....फिर उसका मन करने लगा कि वह हँसे और तब तक हँसती चली जाये जब तक कि उसकी आँखों से आँसू न बहने लग जाए और नाक से पानी...पर सारे थाने की और साथ आऐ लोगों की आँखॆं उस पर गड़ी थीं।

एकाएक होश आने पर वह नाक से अचानक बह आये पानी को पोंछने लगी और पल्लू से खाली आँखें मसलने लगी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

साहित्यिक आलेख

पुस्तक चर्चा

कविता

नज़्म

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

कविता-मुक्तक

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं