अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सीधी-सच्ची बात 

काँईं-काँईं करती हुई लँगड़ी कुतिया अपना टूटा पैर खींचती हुई बाहर चली गई। काकी ने बड़ी ज़ोर से बेचारी कुतिया की पीठ पर डडोका (लट्ठ) जो मारा था।

काकी की ये हरकत आर्यन को क़तई अच्छी नहीं लगी। वो रुआँसा सा होकर काकी से बोला, "काकी तुम बुरी हो, तुमने उस बेचारी कुतिया को डंडा क्यों मारा? अगर तुम उसे रोटी का एक टुकड़ा भी नहीं डाल सकती तो कम से कम डंडा तो मत मारो। बेचारी का एक पैर टूटा है।"

"अरे! वो जाती कहाँ है? कितनी बार भगाया, बार-बार आ जाती है," काकी झल्लाती हुई बोली।

"और वो... तिलक वाला! जो आड़े-तिरछे तिलक लगाकर रोज़-रोज़ आता है। उसे तो तुम थाली भरकर आटा दे देती हो। देखा नहीं कितना मोटा-तगड़ा पट्ठा जवान है," आर्यन काकी पर ग़ुस्सा होते हुआ बोला।

"अरे बेटा! वे ब्राह्मण देवता हैं, अगर उन्हें दान-दक्षिणा नहीं देंगे तो वे श्राप दे देंगे। समझे...!" काकी आर्यन को समझाते हुए प्यार से उसके सिर पर हाथ फेरते हुए बोली।

"पर...  काकी, बेचारी उस लँगड़ी कुतिया का तो कोई घर नहीं, कोई खेत नहीं, उसके पास खाने को भी कुछ नहीं ऊपर से पैर भी टूटा और भूल से किसी के घर - आँगन चली जाये तो मार खाती है, फिर भी किसी को श्राप नहीं देती। कितनी अच्छी है न वो".... आर्यन एक साँस में सीधी-सच्ची बात कह गया।

आर्यन के इस भोलेपन पर लट्टू होते हुए काकी ने उसे अपने सीने से चिपका लिया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक चर्चा

लघुकथा

बाल साहित्य कविता

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं