अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ये दुनिया-वो दुनिया

वर्मा जी बहुत परेशान हैं। उनके छठे कहानी संकलन पर एक बड़ी गोष्ठी ज़ूम पर आयोजित की जा रही है और उन्हें यह समझ नहीं आ रहा कि वे कल कहाँ बैठ कर इस मीटिंग में बोलें?

हर कोना अपने पुराने और बदरंग होने का दर्द बयान कर रहा है। कहीं पेंट उखड़ा दरवाज़ा मुँह बाए खड़ा है तो कहीं प्लस्तर तक ऊँचा-नीचा! हर कमरे को मरम्मत की ज़रूरत है। स्कूल मास्टर की कमाई पर वे अपना परिवार कैसे चलाते हैं, ये वे ही जानते हैं। कमाई का कोई और ज़रिया नहीं। छपी किताबों के दो-दो, तीन-तीन संस्करण निकल जाने पर भी एक पैसे की रॉयल्टी तक नहीं। बीबी उनके दिन-रात बिना पैसे लिए काग़ज़ काले करने पर झल्लाती रहती सो अलग। प्रकाशक उनकी किताबों की लोकप्रियता देखते हुए बिना पैसे लिए किताबें छाप देते हैं, सीधे-सादे वर्मा जी उसी में ख़ुश हैं। बाहर सभा होने पर तो वे अपनी इकलौती बंडी पहन कर सादा जीवन वाले मंत्र के ब्रांड एम्बेसेडर बन कर काम चला लेते थे पर अब तो ज़ूम पर सारी दुनिया उनके साथ-साथ उनका घर भी देखेगी, समस्या यही है! अब वो भद्दे जीवन के एम्बेसेडर बन कर अपनी भद्द तो नहीं उड़वा सकते? क्या करें? उन्होंने आज पहली बार ज़माने और कैमरे की आँख से अपनी ग़रीबी देखी और अपनी कम आय और प्रकाशकों की सीनाज़ोरी को कोसा।

हार कर उन्होंने अपने भतीजे को फ़ोन किया। नए ज़माने के लड़के कुछ सुझा सकते हैं। दो घंटे की मग़ज़मारी के बाद अमित को एक आइडिया आया।

अगले दिन नियत समय से आधा घंटा पहले पहुँच कर अमित ने उनको हत्था हिली कुर्सी पर बिठाए हुए ही स्क्रीन पर उनके पीछे एक बहुत ख़ूबसूरत कमरा तैयार कर दिया। गद्देदार सोफ़ा, बड़ी चौड़ी खिड़की, उसमें ऊपर से लटकता खूबसूरत गमला और लताएँ, कोने में रखा लैम्प, किनारे पर अलमारी में क़रीने से लगीं किताबें! अहा! वे स्वयं मुग्ध हो गए। ज़ूम पर तैयार इस पृष्ठभूमि को देख कर एक ठंडी आह उनके दिल से निकली।

कार्यक्रम में अपने साहित्य के विवेचन से अत्यंत प्रभावित, आत्मसंतोष और गर्व से वे पूरा दिन भरे रहे। अगले दिन उन्होंने ग़रीबी के अफ़सोस को अपने पर से झाड़, पत्नी को लेखन की अमीरी पर भाषण दिया और फिर स्थानीय समाचार पत्र में तीसरे पन्ने को उत्सुकता से खोल, कार्यक्रम की रिपोर्ट ज़ोर-ज़ोर से पढ़ कर सुनाने लगे पर अंतिम पंक्तियों तक आते-आते धूप सी चमकती उनकी आवाज़ पर क्षोभ और दु:ख के काले बादल छा गए, लिखा था: ’वर्मा जी के भव्य घर को देखते हुए उन्हें आधुनिक युग का प्रेमचंद तो नहीं ही कहा जा सकता। उन्होंने साहित्य को बहुत कुछ दिया है तो साहित्य ने भी उनका घर भर दिया है। हम इसके लिए उनके ईमानदार प्रकाशकों को भी धन्यवाद देते हैं!’

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

साहित्यिक आलेख

पुस्तक चर्चा

कविता

नज़्म

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

कविता-मुक्तक

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं