अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मुक्‍तिबोध के नाम

मुक्‍तिबोध कि प्रसिद्ध कविता “चाँद का मुँह टेढ़ा है” की अमर पंक्तियाँ हैं –

“लिया बहुत-बहुत अधिक, दिया बहुत-बहुत कम
मर गया देश, अरे! जीवित रह गये तुम”

इन्हीं पंक्तियों को समर्पित है यह कविता:

ओ मुक्‍तिबोध की अमर आत्मा!, देश अभी यह मरा नहीं है।
पर लेने वालों का स्वार्थी, मन भी अब तक भरा नहीं है।

अब भी गाज़ी, नादिरशाही, तौर-तरीके चले हुए हैं,
अब भी नफ़रत के चूल्हे-पूले, हर नुक्कड़ पर जले हुए हैं।

अब भी ’मेरा-तेरा’ का चाकू, काँट-बाँट में लगा हुआ है,
अब भी मेरे घर चोरों का, आना-जाना लगा हुआ है।

अब भी धर्म, राजनीति के हाथों, कौड़ी दामों बिका हुआ है,
अब भी वोटर बोतल – कम्बल पर, दायित्त्व भूल कर बिका हुआ है।

अब भी दिन गिन-गिन कर जीवन, जैसे-तैसे मुश्किल से चलता,
अब भी रामू रिक्शा खींचे, गोपू गंदी बस्ती में पलता।

अब भी कमला बर्तन माँजे, सरला वही झींकती रहती,
अब भी वहीं ज़िन्दगी किच-किच, बिना दूध की चाय सी लगती।

फिर भी कहती हूँ मुक्‍तिबोध ओ, देश अभी यह मरा नहीं है,
संघर्षों से टकराने का, साहस अब भी चुका नहीं है।

उस अतीत की गौरवगाथा, अब तक देखो भूल ना पाये,
कहीं रहे पर भारत के ही, महागीत हमने हैं गाये।

अर्थ, काम में, विश्व-कथा में, हमने भी पन्ने जोड़े हैं,
नए काल में, उज्जवल भविष्य के, बीज सार्थक कुछ बोए हैं।

अंतरिक्ष – प्रक्षेपास्त्रों में, हमने भी नव नाम कमाया,
और विश्व पुनः कुछ पाने, द्वार हमारे फिर से आया।

देह पुरानी, साँस नई पर, रुक-रुक ही चाहे चलती है,
पर भारत की मान-कहानी, आगे ही आगे बढ़ती है।

पर भारत की मान-कहानी, आगे ही आगे बढ़ती है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

साहित्यिक आलेख

पुस्तक चर्चा

कविता

नज़्म

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

कविता-मुक्तक

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं