अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पेड़ (डॉ. शैलजा सक्सेना)

पेड़ 
तुम्हें धन्यवाद 
पिता और प्रपिताओं से खड़े हो 
सदियों से 
हमें सुख देने को.,.
पेड़! तुम्हें धन्यवाद ।


तुम्हारे 
खुरदुरे शरीर पर हाथ फिराती 
सोच रही हूँ 
कि तुम क्या सोच रहे हो?
तुम्हारी धड़कन नहीं सुनाई देती 
पर तुम हहराने लगते हो पत्तियों की आवाज़ में 
ख़ूब बोल सकते हैं पेड़ हवाओं की अनुमति पर 
पूरा जंगल बोल रहा है
गिलहरियों, झींगुरों की आवाज़ में


मैं तुम्हारे झुके तने पर बैठी 
अपनी सारी कल्पना लिए  
तुम्हारे जड़ों की सोच तक घुसने को इच्छुक!


तुम जाने किस स्वर में गूँजने लगे मेरे भीतर 
“इच्छा है 
व्याकुलता नहीं, 
इसी से पहुँच नही पाती जड़ों के सत्य तक “ 


तुम व्याकुल होती तो बुद्ध हो जातीं  
पातीं मुझ से होकर सत्य तक जाने की राह
तुम स्नेहिल होती तो कृष्ण हो जाती  
पातीं मेरी डालों पर पड़े झूले की पींग में प्रेम का आकाश
तुम प्रेमी होतीं तो राम हो जाती
पूछती मुझ से अपने खोये अर्धसत्य का पता  
तुम जिज्ञासु होतीं तो न्यूटन हो जाती 
पातीं मनुष्य की विराटता से बड़ा है धरती का गुरुत्व  


कोई ऋषि हो जाती अगर साधक होती तो 
मेरी जड़ों पर बैठ स्वयं में पैठतीं!


तुम केवल इच्छुक हो  
इच्छा लहर है संकल्प और विकल्प की 
समर्पणहीन सी !
मैं समर्पित हूँ धरती को 
हवा को 
बादल और आकाश को.. 
सदियों का समर्पण 
ही कर पाता है अर्पण कुछ 
अपने को या दूसरे को..”
गूँजा जाने किस स्वर में मेरे भीतर पेड़
मिट्टी के सच की तरह!!
मैं चुपचाप उठी और जंगल के दो फूल उस वृक्ष के नीचे रख,
चल पड़ी!
लगा,
हर वृक्ष बोधि वृक्ष है 
जिसे प्रतीक्षा है अपने लिए किसी शुद्ध मन
बुद्ध की!!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक आलेख

पुस्तक चर्चा

कविता

नज़्म

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

कविता-मुक्तक

लघुकथा

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं