अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सौ रुपए की सब्ज़ी

बूढ़े माता-पिता, पत्नी और दो बच्चों के भरण-पोषण के लिए सैलून से पर्याप्त कमाई हो जाती थी। तीन महीने से सैलून बंद रहने से आर्थिक तंगी से पस्त हो चुके रमेश को शॉपिंग करने निकलने से पहले सौ बार सोचना पड़ता है।

 साइकिल को कपड़े से पोंछते हुए रमेश ने पत्नी से पूछा, "क्या क्या लाना है?"

"आलू ,प्याज, भिंडी और टमाटर। हरी मिर्च भी माँग लेना जी, फ़्री में दे देंगे दुकानदार," पत्नी ने बताया और एक बड़ा सा झोला थमा दिया।

 "अब तो रोने का मन करता है, पास में है सौ रुपए और थमा दिया बड़ा झोला। झोले का चौथाई भाग भी नहीं भरेगा सौ रुपए की सब्ज़ी से," रमेश ने कहा।

"क्यों? मंडियों में सब्ज़ी काफ़ी सस्ती है, किसानों को औने-पौने दाम में अपनी उपज बेचनी पड़ती है; बग़ल की अजय बाबू की पत्नी कहती है," पत्नी ने बताया।

"अजय बाबू की पत्नी ठीक ही कहती है, लेकिन मैं तो चौक पर ठेले वाले से सब्ज़ी ख़रीदता हूँ। दर-भाव करने पर ठेले वाले की बात सुननी पड़ती है, दूध दाल तेल की क़ीमत सस्ती है क्या? पेट्रोल, डीज़ल की क़ीमत आसमान छू रही है; सिर्फ़ सब्ज़ी महँगी नज़र नहीं आती है," रमेश ने विस्तार से बताया।

रमेश की बातें सुनकर पत्नी भीतर गई और दूसरी छोटी झोली लाकर दी, "सौ रुपए में जितनी सब्ज़ी मिले ले लेना। अब तो थाली में भी कटौती करनी पड़ेगी तीन महीने के लिए, पिछले साल की तरह।"

 रमेश अपनी विवशता और महँगाई पर कुढ़ते हुए सब्ज़ी लाने चला गया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंतर 
|

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है,…

टिप्पणियाँ

पाण्डेय सरिता 2021/07/16 02:09 PM

बहुत खूब

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कविता-सेदोका

कविता

साहित्यिक आलेख

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं