अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अनुभव

यह थप्पड़ भी न माँ-बाप की तरह होते हैं,
नाराज़ तो बहुत होता है मन इनसे,
लेकिन हमेशा अच्छा होता है।

 

यह रिश्ते भी न पुल की तरह होते हैं,
ना जाने कब टूट जाए, गिर जाए
कोई अंदाज़ा नहीं होता है।

 

सर, सर, सर, सर, सरसराहट
यह हवा रोज़ गीत सुनाती है कानों में,
या दबी-दबी आवाज़ में,
किसी की शिकायत कर जाती है मुझसे
कुछ पता ही नहीं चलता है।

 

फिर से मन के हल्कूआ ने
जीवन के खेत में दो आँखें बोयीं थीं,
लेकिन फिर किसी आग ने,
उसकी इस फ़सल को जला दिया है,

आज भी कहीं हल्कूआ
किसी मेड़ पर बैठा रोये जा रहा है।

 

तुम्हारे घर के छत से चाँद क्या निकला,
आधी रात में जगा... कि,
सूरज की सुबह वाली किरनें आ गईं,
तो निकल पड़ा मज़दूरी करने,
कुछ ख़्वाहिशों का पेट भरने के लिए।

 

सुना है तुम्हारे यहाँ रुस्वाइयाँ बाँटी जाती हैं,
ज़रा एक मेरे लिए भी ला देना,
पता चला है कि आजकल दुःख सस्ते हो गये हैं।

 

अब जाकर पता चला मुझे,
लोगों का दिल इतना कठोर क्यों हो गया है,
कितने मज़बूत होते जा रहे हैं सब,
क्योंकि बाज़ार में बेजोड़ सीमेन्ट का दौर चल पड़ा है।

 

कुछ लोग सड़कों पर यूँ ही नहीं बैठते हैं जनाब, 
पेट हमेशा खाने से ही नहीं भरता है,
कभी-कभी धूल से भी भर जाता है जनाब।

 

मैं तो बात-बात पर,
सिगरेट ही जलाता हूँ हुजूर!
यहाँ न जाने कितने,
बात-बात पर घर जला जाते हैं।
फिर भी मैं.......

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं