अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अपनी-अपनी जगह

चलो जो होना था वो हुआ,
अच्छा हुआ जो हुआ।


न कुछ खोने की क़ूवत,
न तेरे बस में थी,
न मेरे बस में थी।


कितने मज़बूत थे,
हमारे सदियों के इरादे,
तो कमज़ोर होना।
न तेरे बस में था,
न मेरे बस में था।


हमें तो आज भी यक़ीन नहीं,
कैसे हम उन राहों से गुज़र गये,
जिनपे दो क़दम चलना।
न तेरे बस में था,
न मेरे बस में था।


बुझ गईं वो मशालें,
जो हमने जलायी थीं,
रस्मों-रिवाज़ों के ख़िलाफ़
अब उनको जलाये रखना।
न तेरे बस में था,
न मेरे बस में था।


कैसे नाम दें हम,
उन बेनाम जज़्बातों को,
जिनको नाम देना।
न तेरे बस में था,
न मेरे बस में था।


ठीक ही था,
जहाँ तुम रुक गये अपनों के लिए,
जहाँ मैं रुक गया था,
संजीदगी के लिए।
तो फ़ासलों को कम करना
न तेरे बस में था,
न मेरे बस में था।


न तुम मजबूर थे,
न मैं बेबस था,
तुम अपने जगह ख़ुश थे,
मैं अपनी जगह सही था।
शायद बेपरवाह होना,
न तेरे बस था,
न मेरे बस में था।


आख़िर कब तक,
एक-दूसरे की आदत की वज़ह बनते।
जब समझ ही लिया था हमने अपना दायरा,
तो यादों का दुःखड़ा रोना।
न तेरे बस में था,
न मेरे बस में था।


कौन किसे कितना जानता था
जो सच था।
तुम्हारा-मेरा दिल जानता था,
बस सच कहने की हिम्मत।
न तेरे बस में था,
न मेरे बस में था।


हाँ! ज़रूर याद आ जाती है,
हमारे रूबरू होने की वारदातें,
तो सदमों को इतनी जल्दी भूल जाना।
न तेरे बस में था,
न मेरे बस में था।


जब हम आगे निकल चुके थे,
इस दुनिया की भीड़ से।
तो पीछे मुड़ कर देख पाना।
न तेरे बस में था,
न मेरे बस में था।


जो होता है ठीक होता है
सच हमेशा मासूम होता है,
बस इसे सही मान लेना।
न तेरे बस में था,
न मेरे बस में था।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं