अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बीमा पॉलिसी बनाम हथकंडे

“मुझे क्या पता था कि ऐसा हो जायेगा,” मनजीत अपने पति की ओर देखते हुये धीरे से बोली।

“तो मुझे भी कौन सा पता था? मैंने तो हम सबके बारे में सोचकर ही ये फ़ैसला लिया था। क्या पता था कि सारी स्कीम ही उलट-पुलट हो जायेगी,” नवजोत ने पत्नी से कहा।

“हे भगवान! क्या उम्मीद थी, और क्या हो गया! इतना जो अधिक प्रीमियम भरा है, वो तो सारा गया ही... आगे भी पता नहीं कब तक और भरना पड़ेगा? ऊपर से इसकी ज़िम्मेदारी और गले पड़ गई,” मनजीत माँ के कमरे की तरफ़ देखते हुये बोली।

“जाने कब अमीर बन पायेंगे? मैंने तुमसे कहा भी था कि दोनों के ही नाम की पॉलिसी ले लेते हैं। लेकिन तुम मानी ही नहीं,” नवजोत की आवाज़ में ग़ुस्सा और पछतावा दोनों था।

“तुम्हें पता भी है कि दो बुजुर्गों का कितना अधिक प्रीमियम देना पड़ता है? और मैंने भी तो सबके भले के लिये ही बोला था, फिर उस बीमा एजेंट ने भी तो यही सुझाया था कि प्रीमियम शायद ज़्यादा देर नहीं देना पड़े। पॉलिसी होल्डर के मरते ही बेनीफिशीयरी होने के नाते बीमे की सारी रक़म हमें मिल जायेगी,” मनजीत घबराते होते हुये कहे जा रही थी।“यही सोचकर तो मैने केवल माँ के ही नाम की पॉलिसी ली थी कि माँ ही ज़्यादा ढीली-ढाली रहती है, पिता जी तो अभी ठीक-ठाक हैं और उनकी पेन्शन भी आ जाती है। लगता तो यही था कि माँ ही पहले जायेगी। परन्तु क्या पता था कि पिता जी ही पहले....।”

उधर दरवाज़े के पीछे खड़ी बचन कौर की उदास नज़रें सामने टँगे मृत पति के चित्र पर अटकी हुई थीं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

कविता - हाइकु

ग़ज़ल

गीत-नवगीत

अनूदित कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं