अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

दुआ या कुछ और... 

“ये लो, वो गुरबख़्श भी आ गया, अब एक जन और आ जाये तो हम सारे मिल के ताश की बाज़ी लगायें,” पार्क की बेंच पर बैठे हुये जोगिंदर ने गुरबख्श को आते देख साथ बैठे दलबीर से कहा।

“नहीं यार,” दलबीर ने उसे टोका, “हम तीनों ने आज यहाँ से जल्दी ही चल पड़ना है और जाके अपने घर के गेराज में बैठना है। मैं सारा प्रबन्ध कर आया हूँ। बोतल के साथ-साथ खाने-पीने का पूरा सामान रख के आया हूँ। अब शाम की पार्टी वहीं चलेगी।”

“पर यार, कल तो तू कह रहा था कि पैसे ख़त्म हो गये हैं फिर आज ये सारा सामान कहाँ से आ गया?” जोगिंदर ने पूछा, तब तक गुरबख़्श भी उनके क़रीब आके बैठ चुका था।

“आज सुबह ही बेटे ने मेरे क्रेडिट कार्ड में पैसे डलवा दिये थे तो मैंने सोचा चलो आज जशन मनाते हैं,” दलबीर ने ज़रा गर्व से कहा।

“यार तू बहुत लक्की है जो तुझे ऐसी औलाद मिली है वर्ना आजकल तो, तू जानता ही है..” जोगिंदर ने बात बीच में ही छोड़ दी।

“हाँ यार, मेरा बेटा बहुत ही अच्छा है, कभी किसी चीज़ की कोई कमी नहीं होने देता। रुपये-पैसे से लेकर कपड़े-लत्ते तक सब भरपेट मिलता है,” दलबीर ने बेटे की तारीफ़ करते हुये कहा।

“यार, बेटा-बहू तो मेरे भी बहुत अच्छे हैं,” जोगिंदर ने ज़रा धीमे से कहा, “वैसे तो किसी चीज़ की कोई कमी नहीं है, हाँ पर जब वो बार-बार ये कहते हैं कि पंजाब वाली ज़मीन और घर बेच कर पैसे यहाँ ले आओ, हमने बिजनिस करना है तो मुझे अच्छा नहीं लगता है। यार मैं छह महीने कनेडा में और छह महीने पंजाब में अपने यारों-दोस्तों के साथ मज़े में रहता हूँ, मेरा सारा ख़र्चा वहीं से चल जाता है। अब अगर वहाँ सब कुछ बेच दिया तो फिर मैं किस मुँह से वहाँ जाया करूँगा?”

“बात तो तेरी ठीक है जोगिंदर, पर क्या करें ऐसे ही चलता है, हर घर की अलग ही कहानी है, ख़ैर छोड़ो, आओ अब चलें,” दलबीर ने कहा फिर गुरबख़्श को देख बोला, “ओय तू बड़ा चुपचाप है, चल चलें वहाँ बोतल हमारा इंतज़ार कर रही है।”

गुरबख़्श कुछ न बोला। बस चुपचाप उनके साथ-साथ चलने लगा पर चलते-चलते वह यही सोच रहा था कि वह अपने बच्चों के बारे में क्या कहे, यही कि परसों पार्टी के लिये तैयार होने के पश्चात उसका बेटा यह कह कर उसे घर पर ही छोड़ गया कि वह वहाँ जाने के लायक़ ही नहीं है,या फिर वह ये कहे कि कल उसकी बहू ने वाईन का गिलास और खाने की पलेट उसके सामने से उठा ली थी, क्या कहे, क्या अब भी ऐसे बच्चों को दुआ देनी चाहिये या कुछ और...।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

कविता - हाइकु

ग़ज़ल

गीत-नवगीत

अनूदित कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं