अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

माँ

टेलिफ़ोन के इस तरफ़ मैं हूँ
मेरी दुनिया है, मेरा वर्तमान है
टेलिफ़ोन के उस तरफ़ तुम हो,
मेरा बचपन है, मेरा अतीत है।
बीच में हज़ारों मील धरती
हज़ारों फीट का आसमान
हज़ारों गैलन पानी के अनेक समुद्र।

तुम देख नहीं सकतीं
मुझे
मेरे घर को
मेरे परिवेश को,

मैं क्या पहनती हूँ
क्या खाती हूँ
कैसे रहती हूँ...

पूछती हो फ़ोन पर
हड़बड़ाई सी...
मिनट भर में
महीनों की चिंता भर देने की
कोशिश करती हो...
“कैसी है तू...?”
तुम्हारा स्वर
हो जाता है पनीला ममता से,

मैं प्रश्न को छूती हूँ उथला ही
सरसराया सा जवाब देती हूँ
“अच्छी हूँ, और तुम?”
तुम अपना आँचल समेट
छिपाती हो स्वयं को...
        “ठीक हूँ”
हम दोनों सच और झूठ के बीच
         रखते हैं पाँव फूँक-फूँक कर
पता न चल दूसरे को
         पाँव में छाले कितने हैं

सच हमेशा रहा है धारदार
धार को ढँका ही रहने दें तो अच्छा!
बिना कहे तुम सुनती हो मेरा सच
बिना कहे मैं जानती हूँ तुम्हारा मन...
ज़िंदगी बदल जाने की कहानी
तुमने भी जी थी कभी
अब मेरी बारी है
जानती हूँ!

कहो तो,
हर बात में सीख देती तुम्हारी निगाहें,
हर बात को सुधारती तुम्हारी अँगुलियाँ
रह लेती हैं कैसे मुझसे दूर....??
अनुभवी हो तुम,
नियति को स्वीकार
झुका लिया मस्तक तुमने...

पर मैं,
हर काम पर अटकती हूँ
खोजती हूँ तुम्हारी जाँचती निगाहों को,
न पाकर उन्हें खुद खो जाती हूँ
कहाँ से लाऊँ ’सही’ करवाने को तुम्हारी आवाज़
अब तक थी जो मेरे साथ।

कल तुम्हारे ’टोकने’ पर अटकती थी मैं
क्रोध से, दुःख से देखती थी तुझको
आज तुम्हारे ’टोकने’ को तरसती हूँ मैं
विवश सी, खोयी सी ढूँढती हूँ तुमको –
तसल्ली बस यही है
टेलिफ़ोन के उस पार तुम हो
मेरा बचपन है...॥
मैं जानती हूँ॥।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

साहित्यिक आलेख

पुस्तक चर्चा

कविता

नज़्म

कहानी

कविता - हाइकु

पुस्तक समीक्षा

कविता-मुक्तक

लघुकथा

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं