अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अब लौट जाना

बस अब लौट जाओ!
मेरी स्मृति,
मेरे अस्तित्व, मेरे भविष्य से
मेरे अतीत से।
बस अब लौट जाओ!


किसी चीज़ का खालीपन होना,
बहुत सी चीज़ों को भर देता है।
कुछ वक़्त का भी निखरना सही होता है,
कुछ सदमों का होना भी ज़रूरी होता है।
क्योंकि इसकी कोख में,
एक नये सच का जन्म होता है।
अस्पताल बन जाने से,
मौतें रुका नहीं करतीं।
और परिवर्तन भी नहीं रुकता
बस इसी सच को मान कर लौट जाओ!


तो बस लौट जाओ उसी तरह,
जैसे जीवन लौट जाता है
मौत की तरफ़।
ठीक उसी तरह,
जैसे यौवन लौट जाता है जरा की तरफ़।
जैसे लौट जाता है बचपन,
असंतुलित यौवन की तरफ़।
ऐसा इसीलिए,
क्योंकि मैं अब रुकना चाहता हूँ
एकाएक ठीक उसी तरह,
जैसे दीवार की घड़ी की सुइयाँ।
बस उसी तरह,
जैसे बहुत दूर लुढ़कती हुई कोई गेंद।
इसीलिए अब लौट जाओ!

जैसे हादसे लौट जाते हैं जीवन से,
जैसे बालों का रंग 
सफ़ेदी की ओर लौट जाता है।
बस वैसे ही,
जैसे लौट जाते है आँसू,
ज़मीन की तरफ़।
ऐसा इसीलिए अब,
क्योंकि मैं अब बदलना चाहता हूँ,
अपनी कुछ परिचित आदतों को।


दुविधाओं से भरे जीवन में,
मैंने बहुत कुछ देखा है
मेरा घर भी जल रहा है,
और प्यास मेरे प्राण को निकाले जा रही है
पानी तो है मगर सबसे पहले किसे दूँ?
कहना तो है बहुत कुछ,
लेकिन चुप रहना चाहता हूँ।
मगर चुभन जुबाँ खोल ही देती है।
इसलिए मैं भी चलना चाहता हूँ,
वक़्त की चादर ओढ़े कहीं और..
तो लौट जाओ,
बस अब लौट जाओ।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं