अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

दीवारों में क़ैद दर्द

यही मेरा टूटा-फूटा मकान है
मेरा नाम प्रेमपाल है
मेरे बच्चे परेशान हैं
यह मेरे चार छोटे-छोटे बच्चे हैं
जो भूख से निढाल हैं।


बीमारियों से ज़्यादा हमें
भूख मार देती है साहब!
क़यामत से ज़्यादा
मेरे बच्चों की नम आँखें
मार देती हैं साहब!


मैं रहने वाला हूँ भारत का
मैं एक ही पीड़ा नहीं
कई दर्द हूँ प्रेमपालों का।


शासन क्या है मुझे नहीं पता
हुकूमत क्या है मुझे नहीं पता
न खाने को अन्न है
न पेट के लिए रोज़गार
भूख की पीड़ा क्या होती है
मुझे तो सिर्फ़ यही पता।


नही चाहिए हमें सियासत शोहरत
हमें उम्मीद बस दो रोटी की
कल की हालत बची हुई है
आज ज़रूरत है बस खाने की।


न पास मेरे पैसा है
यह कुदरत का खेल कैसा है
बस उम्मीद हमें तड़पाती है
बच्चों की भूखी सूरत हमें सताती है।

निकल जाता हूँ कड़ी धूप में
ख़ाली पेट ज़िंदगी की क़ीमत लेने
अफ़सरानों की बेमुरव्वत
और भी भारी हो जाती साहब!
ख़ाली पेट, पीठ पर लाठी के निशान
क्या करूँ साहब!
मैं हूँ बहुत परेशान
बच्चे भूखे हैं, छटपटा जाता है प्राण।
 

भूख से मर जाएँ साहब!
या भूख को मारने के लिए मर जाएँ
अपनी विवशता देख-देखकर
हम कितने बार डर जाएँ।


आँसू छलक पड़ते हैं
जब बच्चे रो पड़ते हैं साहब!
अब तो जीवन के विरुद्ध
कुछ करना होगा
बदनाम न हो मेरा समाज
चुपचाप मौत की नींद सोना होगा।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं