अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हादसे अभी ज़िन्दा हैं

यह कैसे कह दूँ,
कि मेरे पास कुछ नहीं है।
कितने ग़मों की सौग़ातों से,
भरी पड़ी है मेरी ज़िन्दगी।
दुःख इसका नहीं मुझे
कि बुरा हूँ मैं,
बहुत जल्दी साज़िशों का शिकार
हो जाया करता हूँ मैं।


क्या आर्कषण ही,
प्रेम का मापदंड हुआ करती है?
हादसों से मेरा चेहरा क्या बिगड़ा,
कुछ को हाथ-पैर की मैल की तरह,
मेरे समर्पण को धोते देखा है।
नादानों के लिए मेरी यह भावनाएँ,
शब्दों के तारतम्य के सिवाय कुछ भी नहीं।
लेकिन कुछ के लिए,
मन्दिर के दीये की तरह हैं,
जिस पर हाथ रखकर,
कुछ बदलने की ख़्वाहिश रखते हैं।


दुनिया किसी की आज भी उजड़ती है,
कुछ के खण्डहर मिल जाते हैं,
कुछ का कहीं नामोनिशा नहीं होता है।
कैसे मान लूँ ,
लोग समझते और पहचानते हैं मुझे,
क्यों हर बार मुझसे पूछा जाता है,
क्या हाल है आपका?


कोई जरूर नहीं,
यहाँ सब कुछ मिल जाए मुझे,
जाते वक़्त कुछ तो बोझ,
मेरा हल्का होना चाहिए।
जिस सुकून की तलाश में निकला था,
अपने जीवन को साथ लेकर,
पता चला वो तो ख़ुदा के पास है।


आज टूटकर मैंने,
माँ के आँचल में छिपना चाहा,
लेकिन कमबख्त शरीर का क़द,
बड़ा निकला।


यह ज़ख़्म है,
या समन्दर का पानी,
ख़त्म ही नहीं होता।
किसको कहें हम,
यहाँ अमूल्य।
भगवान की मूर्तियाँ भी यहाँ
दामों में बिकती हैं।
यहाँ हादसों से अगर
खड़ी होती है भीड़,
तो एक हादसा मेरा भी होना चाहिए।


कोई क्या समझेगा,
मेरे एहसासों की क़ीमत,
कुछ चीज़ों के दाम नहीं हुआ करते।
मेरे जीवन का कोई
ठिकाना तो नहीं,
मगर मेरा नाम
लोगों की ज़ुबान पर जगह ले लेंगे।
तू मुझसे अब कुछ भी न कह. . ऐ ज़िन्दगी,
तू भूखे पेट सोते हुए,
एक बच्चे में भी ज़िन्दा है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं