अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जलजले

तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।
इस जलजले में हवाएँ गुम हैं
सूरज भी कहीं गुमसुम है
सुनी है पत्तों की सरसराहट
सता रही काली रातों की आहट
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


सूनी है गाँव की पगडंडियाँ
तड़प उठी हैं सारी वादियाँ
आवाज़ क़ैद है दीवारों में
आसमां चुप है सितारों में
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


शहर-शहर तड़प उठे हैं
गाँव-गाँव फड़क उठें है
सड़कें बेहाल क्या कहूँ
लोगों का हाल क्या कहूँ
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


भूख उठी है जन-जन में
डर व्याप्त है मन-मन में
हाय मासूमों का अब क्या होगा
ख़ामोश आँखों का अब क्या होगा
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


रुक गयी जीवन की धारा
बिलख रहा संसार सारा
रूठ गयी जीवन की ख़ुशियाँ
भय से दुःख रही है अखियाँ
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


साँसें रुकी हैं भूख के मारे
क्या करेंगे मज़दूर बेचारे
हाय टूट गया अपनों का प्यार
रो रहे सब घर और द्वार
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


माँ से अपने बिछड़े बच्चे
दूर है कितने घर के बच्चे
बे-मंज़िल कई रास्ते हैं
अभी न जाने कितनी रातें है
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


तांडव कर रहीं हैं मौतें
झन-झन नाच रही है मौतें
विश्व बिलबिला रहा है कैसे
धरा  धँस रही दलदल में कैसे
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


कहीं भूख है कहीं प्यास है
कहीं मौतें कहीं आस है
दुनिया जैसे विरान पड़ी है
यह कैसी आफ़त आन पड़ी है
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


निराधार हो गया जीवन हमारा
कैसे बिलख रहा देश हमारा
तरस गये बच्चे दूध और पानी से
कितने बेबस है ये ज़िन्दगानी से
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


कहाँ गए दुआएँ सजदे
जो लोगों का विषाद हर ले
क्या होगा परिणाम इस जलजले का
कब कम होगा जीवन फ़ासले का
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।


अपाहिज हो गये सम्बल हो कर
सिकुड़ गये हम बल हो कर
न पत्थर, पानी न उबड़-खाबड़
थम गई रफ़्तार भागम-भागड़
तो बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ
बोलो कैसे तुम्हें पुकारूँ।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं