अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

झुमका

तुम्हें याद है बचपन में कैसे तुम मुझे अपनी साइकिल पर बिठा कर, हमारे गाँव के आख़िरी छोर पर स्थित एक चाय की टपरी पर ले जाते थे।

मेरे हाथों में अपने हाथों की जकड़न और ज़्यादा करते हुए तुमने कहा था, जिस दिन मैं अच्छी चाय बनानी सीख गई। उस दिन तुम मेरे साथ, मेरे ही घर की छत, जो पूरे गाँव में सबसे ऊँची है। जहाँ शिमला जैसी ठंड महसूस होती है; वहाँ पर मेरे साथ चाय पियोगे। और शाबासी के तौर पर मेले में जो नए "झुमके" मैंने पसन्द किए थे,वो भी पक्का मुझे लाकर दोगे।

देखो ना, मैंने बहुत अच्छी चाय बनानी सीख लिया।

लेकिन तुम तो बादलों में लुकाछुपी करते चाँद निकले।

जो मौजूद होकर भी मेरे जीवन में अमावस करते रहे।

आज मेरे घर की छत, जहाँ शिमला जैसी ठंड गिरती है। 

वहाँ तुम्हारे इंतजार में गिरी ओस की बूँदे विलाप करते-करते जम कर बर्फ़ की शिला बन गई।

इंतज़ार इतना लंबा हो गया कि तुम्हारे इंतज़ार में मैंने एक सदी जितना लम्बा जीवन बीता दिया।

सुनो,अब तुम मत आना!!

क्योंकि मैंने चाय पीना छोड़ दिया है और रहा 'झुमकों' का सवाल? तो वो भी अब सिर्फ़ मेरी शृंगारदानी की शोभा बढ़ाते हैं।

ख़ैर तुम आ भी गए अगर इस जीवन में, तो उस जीवन का हिसाब बराबर नहीं कर पाओगे। जो मैंने तुम्हारे इंतज़ार में बीता दिया है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कविता

कहानी

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं