अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मैं अख़बार हूँ!

मैं अख़बार हूँ।
मुझे तरह-तरह के लोग
मुझे तरह-तरह से पढ़ते हैं।


कोई मुँह बिचका लेता है,
कोई मुँह उठा लेता है।
कोई चुप होकर भौहें तान लेता है,
कोई अनेक शब्दों में बड़बड़ा लेता है।


क्योंकि मैं अख़बार हूँ।
हर कोई अपने हिसाब से थाम लेता है।
अख़बार बन जाना अपने आप में सभ्यता है।
कि यहाँ तरह-तरह के लोग है,
क़िस्म-क़िस्म के विचार
अजीबो-अजीब वाद-विवाद
और नस्ल-नस्ल के झगड़े।


कुछ उटपटांग जीवन शैली
कुछ अल्हड़ रीति-रिवाज़
कुछ बेपरवाह मान्यताएँ-धारणाएँ।


कुछ ख़ौफ़नाक वारदातें
कुछ भेद, कुछ अभेद
कुछ हद, कुछ बेहद
कुछ शोहरतें,
कुछ गुमनामी
कहीं भूख,कहीं सदमे
कहीं रंग, कहीं बिरंगे
कहीं संस्कृति, कहीं नस्लवाद
कहीं सौम्य, कहीं उग्रवाद
कहीं बहुत कुछ,
कहीं कुछ भी नहीं।


कहीं सियासत, कहीं बग़ावत
कहीं प्रेम, कहीं धोखा
कहीं उम्मीद, कहीं टूटना।
कहीं सोना, कहीं जागना
कहीं हँसना, कहीं रोना
कहीं शब्द, कहीं निःशब्द।


कहीं शोर, कहीं ख़ामोशी
कहीं ख़ून, कहीं लाश
कहीं त्याग, कहीं लूट
कहीं सवेरा, कहीं अँधेरा।


और इन्हीं से मिलकर बनता हूँ,
मैं हर रोज़ एक नया अख़बार।
एक नहीं, दो नहीं,
सत्रह-अट्ठरह पृष्ठों की
सत्रह-अट्ठरह जीवन जीता हूँ।


जितनी उँगुलियाँ हैं,
उतने में फँस जाता हूँ
और दो अँगूठों में दब जाता हूँ।
मुझ जैसे अख़बार की,
एक विशेषता रही है दोस्तो!


कितनी बार पढ़ा जाता हूँ,
कितनी बार मोड़ा और दोहरा जाता हूँ।
मेरी एक दिन की ज़िन्दगी,
समाप्त हो जाती है जब,
किसी आलमारी की रद्दी कोने में,
मैं बेपरवाह फेंक दिया जाता हूँ।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं