अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मैं मुम्बई हूँ

खुशियों का समन्दर मेरा,
हुआ दर्द में तब्दील
किसको दिखाऊँ अब मैं
ग़म की फ़ेहरिस्त तवील
ज़र्रा ज़र्रा हुआ है घायल,
रेशा रेशा है ग़मगीन
चप्पे चप्पे आग बरसती,
आँसू बन गये झील
हब्स के घेरे में घिरके मैं,
आज बनई तमाशई हूँ
मैं मुम्बई हूँ, मैं मुम्बई हूँ, मैं मुम्बई हूँ

अपने ही जिगर के टुकड़ों को,
आज बिछड़ते देखा
अपने ही सीने पर दुश्मन को,
बारूद उग़लते देखा
ख़ूँ से रँगा है जिस्म मेरा,
हुआ है घायल दिल मेरा
बग़ैर क़फ़न के बेटों,
क़ब्रों में उतरते देखा
दर्द की कितनी तहों से मैं,
आज गुज़र गई हूँ
मैं मुम्बई हूँ, मैं मुम्बई हूँ, मैं मुम्बई हूँ

मुझको हिस्सों हिस्सों में,
ओ ज़ालिम, काटने वालो
अनगिनत टुकड़ों में मुझे
तुम, आज बाँटने वालो
मेरी आँखों का नूर,
मेरे दिल का सुरूर छीनने वालो
मतलब की ख़ातिर,
तलवे विदेशों के चाटने वालो
जान लो, उजड़ के दोबारा
हरबार ही मैं बस गई हूँ
मैं मुम्बई हूँ, मैं मुम्बई हूँ, मैं मुम्बई हूँ

बेगुनाहों का लहू जब,
सर चढ़ के तुम्हारे बोलेगा
याद रहे, तुम्हारी माँओं का
कलेजा भी उस दिन डोलेगा
अर्श से बरसेंगे जब,
इंतक़ाम के गहरे बादल
हर ज़ुर्म तुम्हारा वक़्त
अपनी तराजू में तोलेगा
कल चलूँगी रफ़तार से
अपनी, आज सिमट गई हूँ
मैं मुम्बई हूँ, मैं मुम्बई हूँ, मैं मुम्बई हूँ

ये उजड़े हुए ढाँचे तो
फिर से खड़े हो जायेंगे
दिल पे लगे घाव मगर,
एक दिन रंग तो लायेंगे
क़त्ल को जायज़ और
क़ातिल को पनाह देने वाले
रब की अदालत से भी,
बन न कभी वो पायेंगे
जान लो सब न मैं न्यूयॉर्क,
न मैं लंदन, न ही मैं शंघाई हूँ
मैं मुम्बई हूँ, मैं मुम्बई हूँ, मैं मुम्बई हूँ

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

अब हमने हैं खोजी नयी ये वफ़ायें
|

अब हमने हैं खोजी  नयी ये वफ़ायें माँगनी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

कविता - हाइकु

ग़ज़ल

गीत-नवगीत

अनूदित कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं