अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मन की बात

जब तक तन है तब तक मन से
मन की बात नहीं जायेगी॥
बीत गई जो रजनी सुहानी
फिर वह रात नहीं आयेगी॥


तक तक हार गया है चातक
स्वाति बूँद पाई न अब तक ॥
आज नहीं तो कल इस जग मे
तेरी बात कही जायेगी॥


सुन न सका जग जो विपदायें।
उनको धीरज कौन दिलाये॥
तुम लिख देना मीत प्रीत ही।
हिय को सदा वही भायेंगी॥


सब कुछ भूला भुला सका ना।
एक घड़ी का वह अपनापन ॥
बुला रहा अब उसी घड़ी को।
क्या वह पास कभी आयेगी॥


घाव दिये हैं उसने मन को
भाव दिये थे हमने जिनको ॥
बुझते दीपक से अब बोलो
कब तक घात सही जायेगी॥


करते जो उपहास आज हैं
भरते साँसें बिना काज हैं ॥
मेरी व्यथा व्यर्थ ना होगी
मेरी कथा लिखी जायेगी..॥


भावों की भीगी झोली में
कितने मोती तुम्हें दिखाऊँ ॥
कल इन मोती की कीमत तो
स्वयं जगती ही बतलायेगी ॥


पुष्प खिलाया हृदय लगाया
कुन्ज कुन्ज भँवरा मँडराया॥
अमराई में बौर नहीं है
कोकिल राग नहीं गायेगी॥

 

स्नेह सिक्त थीं नहीं रिक्त थीं
प्रेम भाव की बे सब बगियाँ॥
क्यों उनका अभाव आज है।
क्या मधुमास कभी पायेंगी॥

 

मुर्झाये पौधे उपवन में।
उनमें प्राण जल कौन भरेगा॥
क्या ये उपवन फिर महकेगें।
क्या बरसात कभी आयेगी॥


ले मन मे एक प्रश्न आज मैं।
जग की ओर निहार रहा हूँ॥
आतंकवाद की काली छाया।
की क्या रात कभी जायेगी॥


दीप जला कर मानवता का।
सबको है कालिमा मिटाना॥
इस वसुधा मे हर प्राणी की
शान्ति गात ही मुस्कायेगी ॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं