अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मुहब्बत का जुनूँ मरा नहीं करता

कहीं तो कोई बेहद ही तरसता है तेरी ख़ातिर
कहीं कोई तेरी ज़रा सी भी परवाह नहीं करता
कहीं तो कोई अपने दिलो जां लुटाता है तुझ पे
कहीं कोई तुझसे थोड़ी सी भी मुहब्बत नहीं करता

कहीं तो दिल में वलवले उठते तेरी आहट से ही
कहीं कोई तेरी तरफ इक निगाह भी नहीं करता
कहीं तो तेरे ख़्वाबों से भी हरदम मुहब्बत है होती
कहीं कोई तुझको एक पल सोचा भी नहीं करता

कहीं तो फ़लक से फ़रिश्ते भी तेरे कदमों को चूमते हैं
कहीं कोई अदना सा इन्सान भी झुका नहीं करता
कहीं तो अब्र भी बरसता है तेरी आँख के इशारे पे
कहीं एक बूँद पानी भी तुझको मिला नहीं करता

कहीं तो नगीने की तरह दिल में सजाते तुझको
कहीं काँच बराबर भी कोई तुझको पूछा नहीं करता
कहीं आस्मां भी रूबरू तेरे झुका देता है खुद को
कहीं एक ज़र्रा भी कभी ख़ुद को क़ुर्बान नहीं करता

ये दुनिया है मेरी जान, लाखों ही रंग हैं इसके
बग़ैर मतलब किसी से कोई निबाह नहीं करता
तुम आज नहीं तो कल यह बात मान ही लोगी
इस दौर में बिना वजह कोई प्यार नहीं करता

हर हाथ में है संग यहाँ हर हाथ में है ख़ंज़र
ऐसे मौसम में मरने वाला भी बचा नहीं करता
पलट आओ कि अभी भी दिल में धड़कन है बची
मुहब्बत का जुनूँ निर्मल यूँ ही मरा नहीं करता

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

अब हमने हैं खोजी नयी ये वफ़ायें
|

अब हमने हैं खोजी  नयी ये वफ़ायें माँगनी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

कविता - हाइकु

ग़ज़ल

गीत-नवगीत

अनूदित कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं