अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पतंगों वाला बचपन 

"न जाने वक़्त के साथ ,
त्योहार की रंगत कहाँ चली गई।
तिल गुड़ के लड्डू की मिठास,
मानो गुम ही हो गई।
अब गली में पतंग के,
शोर-शराबे नहीं मिलते।
ज़िंदगी की भागदौड़ में उलझे,
अब वो यार नहीं मिलते।"

आज छत पर खड़ी होकर उन चंद उड़ती पतंगों को देख रही थी, जो ख़ुशी से उस खुले आसमाँ की बुलन्दी को छुए जा रहीं हैं। लेकिन वो मन भावन उमंग आज गुम सी थी, हाँ वही उमंग जो मकर संक्रांति आने के एक महीने पहले से बच्चों के चेहरे पर छा जाती थी।

बात कुछ ही सालों पहले की है, जब में महज़ दस-ग्यारह बरस की थी। उस वक़्त पतंग ख़रीदने से ज़्यादा मज़े, कटी पतंग लूटने में आते थे। गली में एक महीने पहले से बच्चों का शोर, मानो इस बात का संसूचक था कि त्योहार आने वाला है। घर के अंदर भी ख़ुशियों की फुलवारी महक सी उठती थी। एक तरह माँ तिल गुड़ के लड्डू बनाने लग जाती, तो एक तरफ़ पापा नई पतंग दिला कर हमारा दिल ख़ुश कर देते।

उस वक़्त नई चकरी या धागा ख़रीदने की बजाय, किसने कितना धागा लूटा है- इस बात की होड़ होती थी। और जिसने जितनी ज़्यादा पतंग और धागा लूटा है, उसकी ख़ुशी तो मानो उस आसमाँ में उड़ती पतंग जितनी हो जाती।

सवेरे-सवेरे चिड़िया ओर कौए के साथ काट्टा है.........काट्टा है........, के वो मधुर आलाप जैसे ही कानों पर पड़ते, तो उसी वक़्त लड़कों की टोली उस एक पतंग के पीछे भागती थी। वो दृश्य कितना मनभावक हुआ करता था। एक तरफ़ जहाँ बच्चे इस उन्माद में मग्न हुआ करते थे, तो दूसरी तरफ़ यही ख़ुशी उस गली की नुक्कड़ पर बैठे बुज़ुर्गों में भी देखने को मिल जाती थी। जो बैठे-बैठे बस यही अनुमान लगाते कि अब लाल पतंग कटेगी या सफ़ेद...…!

सारे लड़के जहाँ अपने दोस्तों के साथ पूरा दिन पतंग उड़ाते थे, तो वहीं हम लड़कियाँ अपनी सहेलियों को छोटे-छोटे गिफ़्ट देने उसके घर पहुँच जातीं थीं।

मकर संक्रांति का पूरा दिन बस इसी तरह की चहल-पहल में बीत जाता था।

लेकिन आज वो ख़ुशी ओर वो नज़ारे इस भागती ज़िंदगी की दौड़ में न जाने कहाँ छूट गए! अब ना तो गली में बच्चों का शोर है, और ना ही उन यारों का साथ। तिल गुड़ के लड्डू की जगह भी, अब रेडीमेड गजक आ गई और पतंग उड़ाने से ज़्यादा मज़े आजकल के बच्चों को घर मे बैठ कर वीडियो गेम में आने लगे हैं।


धीरे-धीरे हमारे पर्वों और त्योहारों की रौनक़ विघटन की ओर बढ़ती जा रही हैं। हम सभी का कर्तव्य है कि हम अपनी आने वाली पीढ़ी को अपनी संस्कृति से जोड़े रखें। उन्हें सारे त्योहार और पर्व उत्साह से मनाने की सीख सिखायें। जिससे उनमें आपसी भाईचारा बढ़े, और नई पीढ़ी हमारी अमूल्य संस्कृति की धरोहर को आगे बढ़ाती रहे।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अपराध बोध (डॉ. पद्मावती)
|

बात उन दिनों की है, संघ लोक सेवा आयोग की…

अविस्मरणीय पड़ोसी – विल्डे
|

लम्बी अवधि से हम किसी से परिचित होकर भी…

उत्तर भारत का जाड़ा
|

यूँ तो यह कविता 2011 में लिखी थी परंतु 2014…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कविता

कहानी

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं