अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सपाट बयान

तंत्र!
विश्व की परिधि पर
घूमता एक ऐसा
दोगला शब्द है,
जिसका हम
बेवजह गण बन बैठे है।
चाबुक से पनपते घाव को
सहने के लिए,
यह गण बँधुआ मज़दूर की तरह
अपने आप में,
घुटने टिकाए बैठे हैं
और न्याय की कुर्सी पर बैठे लोग
उसे निष्पक्षता का नाम देकर
उनके पीठ से यह चाबुक खींचते हैं
आजकल अंतपुर से
एक नया घिनौना शब्द
घूम रहा है जिसका नाम है
'दोगली इंसानियत'
जिसे उनके चाटुकार
दिन-रात रट रहे हैं
यह मेज़ों पर असमय
पसरा रहता है
कभी ख़ाकी वर्दी से
निकलते हैं चाँदी के जूते में
तुम्हारा काम हो जाएगा
आख़िर इंसानियत कब काम आयेगी!
फिर सिगरेट का धुआँ
नेताओं के तलवों में
आख़िर चाटने वाले
इंसानियत कब बचायेंगे
अफ़सरों के तुनकी रूआब में
न्यूज़ की हेडलाइन से
आख़िर इंसानियत के
नज़ीर कब होंगे!
कर्मचारियों के महत्वाकांक्षाओं में
उनके बच्चों को,
हाईप्रोफ़ाइल में लाना है
बाक़ी समाज को
तराजू की तौल पर आँकना है
इनके हिस्से की थाती‌ अभी बाक़ी है
आख़िर इंसानियत के लिए
उसने सिस्टम को जोड़ा है
वातानुकूलित कमरे में
तो ठीक है सब सूने
बेवजह गण बन कर
इनके शाश्वत अर्थ की बखेड़िया
तब तक मैं आता हूँ
एक नये शब्द की नई
परिभाषा लेकर...

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं