अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शब्द और राजनीति

जीवन की अप्रत्याशित
संवेदनाएँ
केमिकल के अणुसुत्र की तरह
उलझी, वक्र होती हैं
जीवन को एक तथ्य देती हैं।


शब्दों की तासीर पर
हम किसी अर्थ को बढ़ावा नहीं देंगे
आग की लपट
शब्द के तीक्ष्ण रूप
भयंकर होकर
एक वर्चस्व
एक सोच
एक हुकूमत
गल कर गिरने लगते हैं
जब संवेदनाएँ टूटती हैं।


एक आदमी को
उसके स्वाभिमान के
टूटने के बराबर होता है
हाहाकार
कोलाहल
बहुत छोटी चीज़ है,
शब्दों के साँचे में।


ये मात्र जन समूह के दर्द की
ठोस छटपटाहट नहीं,
बल्कि एक-एक आदमी के
पीड़ा का बिखराव है।


समाज आज भी
मुखौटेपन को
तहज़ीब देता है।


दर्द के पड़ोसी जश्न मनाते हैं
आँसुओं की बगल में
एक बेवज़ह हँसी भी है
तक़रीरों के हमदर्द
खोखलेपन से हाथ मिलाते हैं


शहादत के गलियारों में
दलीलों के सरपंच बैठे हैं
भूख की चारदीवारी के
उस पार,
दावतों के जुलूस
निकाले जाते हैं


शहरों के बीचों-बीच
भागम-भाग का
एक अपाहिज सफ़र है
गाँवों के खेत-खलिहानों में
सर्वदाता की मृत्यु
और उसी मिट्टी से
पनपती एक दोगली राजनीति...।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं