अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जीना यहाँ-मरना यहाँ 

जमुनिया भोर के अँधेरे में ही महुआ बीनने निकल पड़ी थी, जबकि सारी रात उसे तेज़ बुखार रहा था। मगर महुआ नहीं बीनेगी तो खायेगी क्या...? भूखों मरना पड़ेगा। घर में कोई दो पैसे कमाने वाला भी तो नहीं।

पिछले साल तक सब ठीक-ठाक चल रहा था। एक दिन पति रामआसरे जंगल गये तो फिर लौटकर ही न आये। आये तो बस उनके शरीर के कुछ अवशेष, जिनसे बस पहचान ही हो सकी कि ये रामआसरे ही थे। पति का ख़्यालआते ही जमुनिया की आँखों से आँसुओं की धारा बह निकली। एक लम्बी साँस भरी और जमुनिया ने अपने कदमों की रफ़्तार तेज़ कर दी। अगर वो देर से पहुँचेगी तो अन्य लोग महुआ बीन लेगें फिर उसे सारा दिन जंगल में भटकना पड़ेगा। तभी पीछे से झाड़ियों में कुछ हलचल हुई। जमुनिया के कदम एकदम से रुक गये। वो कुछ समझ पाती, इससे पहले उसके ऊपर एक भारी भरकम जानवर ने छलाँग लगा दी। जमुनिया चीख भी न सकी।

सूरज निकल आया था। फ़ॉरेस्ट गार्ड धनंजय व रघुवर अपनी ड्यूटी पर निकले थे। एक जगह आसमान में कुछ चील और कौए उड़ रहे थे। दोनों को समझते देर न लगी। पास पहुँचे तो देखा एक बूढ़ी औरत का छिन्न-भिन्न जिस्म झाड़ियों में पड़ा था।
"इन आदिवासियों को कितना भी समझाओ इनकी समझ में कुछ आता ही नहीं। कल ही बस्ती में सूचना दी थी कि जंगल में आदमखोर बाघ आ गया है, सावधान रहें," धनंजय के स्वर में खीज थी।

रघुवर ने लम्बी साँस भरते हुए कहा, "बेचारे क्या करें? इस जंगल के अलावा इनके पास जीने का कोई दूसरा चारा भी तो नहीं। इनके लिए तो जीना यहाँ - मरना यहाँ इसके सिवा जाना कहाँ।"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक चर्चा

लघुकथा

बाल साहित्य कविता

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं